Categories
उत्तर प्रदेश

अजय मिश्रा टेनी को कोर्ट से मिली राहत, अलग से केस दर्ज करने की याचिका हुई खारिज

लखीमपुर खीरी। उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में किसानों के रौंदे जाने और हिंसा में मारे गये चार लोगों के मामले कोर्ट ने बड़ा फैसला दिया है। लखीमपुर कांड में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी को सीजेएम कोर्ट से बड़ी राहत मिली है। अजय मिश्रा टेनी पर हत्या का केस दर्ज करने की मांग को लेकर दायर याचिका कोर्ट ने मंगवार को खारिज कर दी है। पत्रकार रमन कश्यप के भाई ने कोर्ट में केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा समेत 14 लोगों के खिलाफ मुकदमा लिखने की मांग को लेकर सीआरपीसी की धारा 156(3) के तहत आवेदन दिया था। सीजेएम कोर्ट ने इस मामले में बहस सुनने के बाद याचिका खारिज कर दी। तिकुनिया में 3 अक्टूबर को हुई हिंसा में चार किसानों और पत्रकार रमन कश्यप सहित आठ लोगों की मौत हो गई थी जिसके बाद अजय मिश्रा टेनी के खिलाफ काफी आक्रोश था।

तिकुनिया कोतवाली से आख्या तलब करते हुए सीजेएम चिंताराम ने इस याचिका पर सुनवाई के लिए 15 नवंबर की तारीख मुकर्रर की थी। तिकुनिया पुलिस की आख्या न आने की वजह से उस दिन सुनवाई नहीं हो सकी और कोर्ट ने 25 नवंबर की अगली तारीख तय की। तिकुनिया पुलिस ने अपनी आख्या 25 नवंबर को सीजेएम कोर्ट के पास भेजा था। आख्या पर बहस के लिए पवन कश्यप के वकील ने समय मांग लिया था। इस पर कोर्ट ने सुनवाई के लिए 1 दिसंबर की तारीख मुकर्रर की। इसी दिन अर्जी पर सुनवाई पूरी हो गई, लेकिन सीजेएम चिंताराम ने फैसला 6 दिसंबर तक के लिए सुनिश्चित रख लिया था। छह दिसम्बर को व्यस्तताओं के कारण फैसला नहीं आ सका। सीजेएम कोर्ट ने आदेश के लिए फिर अगला दिन यानि 7 दिसंबर की तारीख तय की।

कोर्ट ने ऐसी खारिज की याचिका

सीजेएम चिंताराम ने मंगलवार देर शाम इस मामले में पत्रकार रमन कश्यप के भाई पवन कश्यप की अर्जी खारिज कर दी। तिकुनिया पुलिस ने अपनी आख्या में अदालत को बताया था कि इस मामले की पहले ही मुकदमा अपराध संख्या 219 2021 में विवेचना हो रही है। इसी आधार पर सीजेएम ने केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी के खिलाफ अलग एफआईआर दर्ज करने संबंधित याचिका खारिज कर दी। इस मामले में अलग से एफआईआर दर्ज नहीं होगी।

लखीमपुर खीरी हिंसा

ज्ञात हो कि लखीमपुर खीरी में 3 अक्टूबर को उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य का दौरा था। यहां तिकुनिया में तीन कृषि कानून के विरोध में किसान प्रदर्शन करने के लिए इकट्ठे हुए थे। केंद्रीय मंत्री अजय मिश्र के बेटे आशीष मिश्र की कार ने सड़क पर मार्च निकाल रहे किसानों को रौंद दिया। इस दौरान फायरिंग भी हुई। रौंदे जाने से 4 किसानों की मौत हो गई थी। गुस्साए किसानों ने हमला कर दिया। हमले में एक पत्रकार सहित चार लोगों की और मौत हो गयी।

यह भी पढ़ेंः-लखीमपुर कांड: अजय कुमार मिश्रा टेनी पर बड़ा फैसला आज, 14 लोगों पर कार्रवाई की मांग