Categories
देश

CORONA संकट के बीच चुनावी रैलियों पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कही ये बात, राज्य सरकारें लेंगी निर्णय

नई दिल्ली। देश में कोरोना का ग्राफ बहुत तेजी से भयावह स्थिति में बढ़ रहा है। कोरोना के कहर के बीच केंद्र सरकार और राज्य सरकारें तेजी से सतर्कता बरत रही हैं। देश के कई राज्यों में फिर से पाबंदियां बढ़ाई जा रही हैं। राज्य सरकारों ने नाइट कर्फ्यू, स्कूल बंदी, सार्वजनिक स्थानों की भीड़ और कोरोना प्रोटोकाॅल की गाइडलाइन जारी कर दी है। कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने कहा कि हमने कोविड के खतरे को देखते हुए पहले ही तैयारी कर ली थी। उन्होंने कहा कि हमने ऑक्सीजन की आपूर्ति को बढ़ाया है। पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए होने वाली रैलियों के बारे में राज्यों पर फैसला छोड़ दिया। उन्होंने कहा कि राज्य सरकारें तय करें कि चुनावी रैलियां होंगी या नहीं।

ज्ञात हो कि इलाहाबाद हाईकोर्ट ने विधानसभा चुनावों को टालने के लिए पीएम मोदी और चुनाव आयोग से अपील की थी। कोर्ट की इस टिप्पणी के बाद चुनाव टालने की चर्चा तेज होने लगी थी। इस पर अब केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मंडाविया ने कहा कि चुनावों में होने वाली सार्वजनिक रैलियों के फैसले को हमने राज्य सरकारों पर छोड़ दिया गया है, हम सिर्फ एडवाइजरी जारी करते हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि देश में अब भले ही कोरोना मामले बढ़ रहे हैं लेकिन हमने चार महीने पहले ही तीसरी लहर की तैयारी कर ली थी। केन्द्र और राज्य सरकार कोरोना के खतरे को लेकर पूरी तरह से अलर्ट है। लोगों को जागरूक करने के साथ ही उनकी सुरक्षा के लिए विभिन्न इंतजाम किए जा रहे हैं। इस लिहाज से ऑक्सीजन की आपूर्ति को बढ़ाया गया है। उन्होंने कहा कि सभी को कोरोना प्रोटोकाॅल पालन करते हुए सुरक्षित रहना है।

यह भी पढ़ेंः-इलाहाबाद हाईकोर्ट के तीन जज कोरोना पाॅजिटिव आने पर मचा हड़कंप, अब ऐसे होगी मुकदमों की सुनवाई