हरियाणा में बीजेपी की किस्मत तय करेंगे ये 7 निर्दलीय विधायक, आज शाम तक आएगा फैसला

0
195
Loading...

हरियाणा और महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव के नतीजे हम सबके सामने है। इस बार विधानसभा चुनाव में कोई भी पार्टी बहुमत के जादुई आंकड़े से दूर ही। जिसके चलते अब दोनों राज्यों में सरकार बनाने के लिए जमकर उठा-पटक हो रही है। लेकिन असली राजनीति को हरियाणा में देखने को मिल रही है। जहां पर कांग्रेस और बीजेपी दोनों ही बहुमत से दूर है। तो वही जेजेपी (जननायक जनता पार्टी) असली किंगमेकर बनकर उभरी है। चुनाव के नतीजों के बाद जहां बीजेपी की तरफ से मनोहर लाल खट्टर सरकार बनाने का दावा कर रहे है। यहां तक की मनोहर लाल खट्टर ने शुक्रवार को अपने बयान में साफ कर दिया कि वह जल्द ही सरकार बनाने का दावा पेश कर सकते है। लेकिन सवाल कि ये चमत्कार बीजेपी करेगी कैसे।

दरअसल नतीजों के बाद ऐसे सात विधायक सामने आए है जो हरियाणा में बीजेपी की नईया पार लगा सकते है। इन सात विधायकों में 5 निर्दलीय विधायक है। जो बीजेपी से बागी होकर चुनावी मैदान में उतरे थे। इसमें सिरसा से गोपाल कांडा, पूंडरी से रणधीर गोलन, महम से बलराम कुंडू, रानियां से रणजीत सिंह, बादशाहपुर से राकेश दौलताबाद। दो और निर्दलीय विधायक दादरी से सोमवीर सांगवान और नीलोखेड़ी से धर्मपाल गोंदर से भी जेपी नड्डा और अनिल जैन को समर्थन मिलने की उम्मीद है।

सिरसा विधानसभा सीट
सिरसा सीट से हरियाणा लोकहित पार्टी के गोपाल कांडा को जीत हासिल हुई है। गोपाल कांडा 602 वोट से जीते है। हालांकि बता दें कि गोपाल कांडा कांग्रेस के दिग्गज नेताओं में से एक रहे है। वह हुड्डा सरकार में मंत्री भी थे। लेकिन विवादों के चलते उन्हें पार्टी से निष्कासित कर दिया गया जिसके बाद अब उनका झुकाव बीजेपी की तरफ दिख रहा है।

महम विधानसभा क्षेत्र
महम विधानसभा सीट से निर्दलीय मैदान में उतरे बलराज कुंडू ने जीत हासिल की है। बलराज कुंडू 12047 वोट से जीते है। हालांकि बलराज बीजेपी के ही नेता है लेकिन विधानसभा चुनाव में सीट न मिलने की वजह से वह पार्टी से बागी होकर चुनावी मैदान में उतरे थे।

पूंडरी विधानसभा क्षेत्र
पुंडरी विधानसभा सीट से निर्दलीय उम्मीदवार रणधीर सिंह गोलन ने 12824 वोटों से जीत हासिल की। गोलन भी बीजेपी के बागी नेता है। विधानसभा में टिकट न मिलने की वजह से वह पार्टी से अलग होकर चुनावी मैदान में उतरे थे।

रनियां विधानसभा क्षेत्र
रनियां विधानसभा सीट से निर्दलीय उम्मीदवार रंजीत सिंह ने जीत हासिल की। रंजीत सिंह ने इस सीट पर 19431 वोटों से जीत हासिल की और हरियाणा लोकहित पार्टी के उम्मीदवार गोबिंद कांडा को हराया। बता दें कि रंजीत सिंह कांग्रेस से बागी होकर चुनावी मैदान में उतरे थे।

बादशाहपुर विधानसभा क्षेत्र
बादशाहपुर विधानसभा क्षेत्र में भी निर्दलीय उम्मीदवार राकेश दौलताबाद ने जीत हासिल की है। राकेश दौलताबाद को 10186 वोट से जीत हासिल हुई। राकेश दोलताबाद ने बीजेपी को मनीष दयाल को चुनावी टक्कर में मात दी है।

दादरी विधानसभा सीट
दादरी विधानसभा सीट से बीजेपी से बागी होकर चुनावी मैदान में उतरे निर्दलीय प्रत्याशी सोमबीर की जीत हुई है। सोमबीर को बीजेपी से टिकट न मिलने की वजह से निर्दलीय मैदान मे उतरना पड़ा। बीजेपी ने विधानसभा चुनाव में दादरी सीट से दंगल गर्ल बबीता फोगाट को उतारा था। लेकिन दादरी सीट पर दंगल गर्ल का जादू नहीं चल पाया।

नीलाखेड़ी (एससी) विधानसभा सीट
नीलोखेड़ी सीट से निर्दलीय उम्मीदावार धर्मदार गोंदार को जीत हासिल हुई है। हालांकि धर्मपाल पहले बीजेपी में थे लेकिन चुनाव में टिकट न मिलने की वजह से वह निर्दलीय मैदान में उतरे। और उन्हें 2222 वोट से जीत हासिल हुई।

बता दें कि हरियाणा में 90 विधानसा सीट है। जिसमें से बीजेपी के खाते में 40 सीटें गई है। तो कांग्रेस के हाथ 31 सीटें लगी है। इसके अलावा जजपा के खाते में 10 सीटे गई है। जो महज 10 महीने पहले ही पार्टी बनी है। जिसके चलते अब हरियाणा में सत्ता की चाबी जेजेपी के हाथ में भी है।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here