lockdown

बीते माह देश भर में कोरोना का कहर बरपा था, धीरे धीरे अब देश भर में कोरोना के मामलों में कमी दिखाई ही दी थी, कि अब लोगों को कोरोना की तीसरी लहर का ड़र सताने लगा है. बताया जा रहा है कि इस तीसरी लहर में सबसे ज्यादा बच्चे प्रभावित होंगे. इसी के साथ देश के कई राज्यों में डेल्टा ने भी प्रवेश कर लिया है. इस बीमारी के कई केस सुनने में आए हैं. हर जगह कोरोना के केस इस समय कम हैं, लेकिन असम में इसका प्रभाव अभी भी है. इसी कारण असम (Assam) के 7 जिलों में कल यानि की 7 जुलाई से अगला आदेश आने तक टोटल लॉकडाउन (Lockdown) लगाने का ऐलान किया गया है. प्रशासन ने जो जानकारी दी है उसके हिसाब से इस दौरान लगातार कर्फ्यू जैसी सख्ती ही बरती जाएगी. किसी भी तरह का कोई व्यापारिक संस्थान नहीं खोला जाएगा. इसका अर्थ है कि वहां दवा और दूध और राशन के अलावा सभी दुकानें पूरी सख्ती के साथ बंद रखी जाएंगी. पब्लिक और प्राइवेट दोनों तरह के परिवहन पर भी रोक लगाई गई है.

इन जिलों में होगी पूरी तरह से बंदी

जो आदेश सरकार की तरफ से निकाला गया है, उसके हिसाब से गोलपारा, गोलाघाट, जोरहाट, लखीमपुर, सोनितपुर, बिस्वनाथ और मोरीगांव जिलों को प्रतिबंधित कर दिया गया है. इसी के साथ फिलहाल अंतर्राज्यीय परिवहन पर भी पूरी तरह से रोक लगा दी गयी है.

कोरोना के कारण हो रही बंदी

असम में कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे हैं, जिसके कारण ये आदेश सरकार की ओर से जारी किया गया है. इसी अतिरिक्त राज्य के शिवसागर और डिब्रूगढ़ जिलों में भी कोरोना के मामलों पर सख्ती रखी जाएगी. असम स्टेट डिजाजस्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी ने मंगलवार को नई एडवाइजरी जारी कर बताया कि शिवसागर, डिब्रूगढ़, कोकराझार, बारपेता, नलबाड़ी, बक्सा, बजली, कामरूप, दरंग, नौगांव, होजई, तिनसुकिया, धेमाजी, काचर, करीमगंज और करबी जैसे जिलों में दोपहर 2 बजे से सुबह 5 बजे तक के लिए कर्फ्यू लगा रहेगा.

बता दें कि, असम के जिन जिलों में कोरोना के मामले कम होते जा रहे हैं, वहां भी शाम 5 से सुबह 5 बजे तक कर्फ्यू लगा रहेगा. सरकार का इस बारे में कहना है कि जल्द ही हालात पर काबू पाने के लिए सभी को सावधानी बरतना जरूरी है.

इसे भी पढ़ें-पीएम मोदी ने तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा को दी बधाई तो ओवैसी ने ऐसे की तारीफ, चीन को लगा जोर का झटका

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here