कोरोना को लेकर चीन की आलोचना कर रहे थे ट्रंप, तभी शुरू हुई फायरिंग, जानें अब कैसी है स्थिति 

349

हर मसले को लेकर बेबाकी से अपनी राय रखने वाले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald trump) जब व्हाइट हाउस (white house) में प्रेस ब्रिफिंग कर रहे, तभी अचानक बाहर फायरिंग शुरू हो गई। एकाएक फायरिंग शुरू होने से स्थिति उलझ गई। इसके बाद फौरन सुरक्षाबलों ने मोर्चा संभाला। व्हाइट हाउस के बाहर हुई फायरिंग की पुष्टि खुद अमेरिकी पत्रकारों ने की है। बाहर हुई फायरिंग के चलते कुछ देर के लिए प्रेस ब्रिफ्रिंग रोकनी पड़ी। फिलहाल अब स्थिति नियंत्रण में बनी हुई है। फायरिंग के बाद नियंत्रण में आ चुकी स्थिति की पुष्टि खुद डोनाल्ड ट्रंप ने अपने वक्तव्यों से की है। उन्होंने खुद कहा कि व्हाइट हाउस के बाहर हुई फायरिंग के बाद अब स्थिति नियंत्रण में बनी हुई है।

ये भी पढ़े :तानाशाह किम जोंग की बहन का तीखा अंदाज, राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से कह दी ऐसी बात

बताते चले कि व्हाइट हाउस के बाहर यह फायरिंग उस वक्त हुई थी, जब ट्रंप देश सहित पूरे विश्व में कोरोना वायरस की स्थिति पर अपनी राय दे रहे थे और इसके साथ ही चीन को अपने निशाने पर ले रहे थे। उन्होंने अमेरिका में कोरोना की हालिया स्थिति का जिक्र करते हुए कहा कि अभी तक 6 करोड़ 50 लाख लोगों का कोरोना टेस्ट किया गया है। उधर, भारत में तकरीबन 1 करोड़ 10 लाख कोरोना टेस्ट के साथ दूसरे स्थान पर पहुंच चुका है। वहीं उन्होंने आसार जताते हुए कहा कि इस वर्ष के अंत तक कोरोना की वैक्सीन उपलब्ध हो जाएगी और हमें इस महामारी से छुटकारा मिल जाएगा।

इसके साथ ही कोरोना को लेकर चीन के रूख पर अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि हम कोरोना को लेकर चीन के हालिया रूख से नाराज है। मैं इस बात का दावा करता हूं कि यदि मैं चुनाव जीतने में कामयाब रहा तो महज एक माह के दरम्यिान ईरान हमारे साथ सौदा करने के लिए तैयार होगा। गौरतलब है कि कोरोना की शुरूआत से ही अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप चीन के रूख से खासा खफा रहे हैं। उन्होंने कई मौकों पर चीन के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की भी मांग की है। उन्होंने चीन के ऊपर कोरोना को लेकर लापरवाही बरतने का आरोप भी लगाया। उन्होंने कहा कि चीन की हीलाहवाली के नतीजतन ही समस्त विश्व में कोरोना अपनी पैठ बनाने में सफल रहा है।

ये भी पढ़े :मिल गया कोरोना वायरस का इलाज, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दी मंजूरी