मुस्लिम थे फिर भी महादेव को चढ़ाते थे जल, गाय को खिलाते थे चारा, पिता कहते थे- पठान के घर में ब्राह्मण

756
irfan-khan-mahadev-mandir

बॉलीवुड के दमदार एक्टर्स की लिस्ट में शामिल इरफान खान (irfan khan) ने 53 साल की आयु में ही दुनिया को अलविदा कह दिया. एक्टर के निधन से फैंस में अब भी शोक का माहौल है. इरफान खान करीब 2 सालों से कैंसर जैसी बीमारी से जूझ रहे थे. हालांकि, उन्होंने विदेश जाकर भी अपना इलाज कराया था मगर उनके जीने का हौंसला बीमारी के आगे कमजोर पड़ गया और 29 अप्रैल को निधन हो गया. उनके जाने के बाद से ही सोशल मीडिया पर उनसे जुड़े कई किस्से वायरल हो रहे हैं. हम आपको उनका ऐसा किस्सा बताएंगे जिसे जानने के बाद आपके दिल में उनके लिए प्यार और इज्जत दोनों बढ़ जाएगी.

मुस्लिम होकर भी मंदिर जाते थे
इरफान खान की कुछ समय पहले ही ‘अंग्रेजी मीडियम’ फिल्म रिलीज हुई है. इस फिल्म को प्रमोट करने का उनका काफी मन था. मगर लॉकडाउन के कारण संभव न हो सका. इस फिल्म की शूटिंग के समय इरफान उदयपुर में थे. जहां उनके ड्राइवर ने एक्टर से जुड़ी कई ऐसी बातें बताईं. जिन पर विश्वास करना जल्दी मुमकिन नहीं है. ड्राइवर नरपत का यह इंटरव्यू इस समय काफी वायरल है.

रिपोर्ट की मानें तो, अंग्रेजी मीडियम के दौरान नरपत (Narpat singh) ने इरफान के साथ करीब 45 दिन गुजारे. वह हर पल उनके साथ रहते थे. नरपत ने बताया कि, एक्टर खुलकर जिंदगी जीने वालों में से थे और एक मुस्लिम होने के बावजूद वह भगवान को मानते थे और मंदिर भी जाते थे.

जब श्रीनाथजी को तस्वीर को माथे से लगाया
नरपत ने बताया कि, शूटिंग के समय ही एक बार एक्टर उनके घर आए. इस दौरान उन्होंने खेतों की हरियाली का लुत्फ उठाया और गाय-बछड़ों को भी खूब दुलार किया. पर वह उस समय हैरान रह गए जब मां ने एक्टर को आशीर्वाद के रूप में श्रीनाथजी की तस्वीर दी जिसे इरफान ने माथे से लगा लिया. narpat_singh with irfan khanइस दौरान जब मां ने चाय बनाकर पिलाई तो एक्टर ने बिना हिचके चाय पी ली और दोबारा से मांगी. इरफान ने मेरी मां से कहा कि, ‘मां मेरी अम्मी जैसी चाय बनाती है वैसी तुम्हारी चाय है एक और चाय पिलाओ ना.’

महादेव को चढ़ाते थे जल
इंटरव्यू में नरपत ने आगे बताया कि, शूटिंग के समय इरफान शहर के एक होटल में रुके थे. तो जब भी वह होटल से निकलते थे सबसे पहले इरफान महादेव के मंदिर जाते और जल अर्पित कर आशीर्वाद लेकर आते थे. इसके अलावा वह शूटिंग से पहले गायों को चारा खिलाना, कुत्तों को रोटी खिलाना जैसे काम जरूर करते थे. एक तरह से ये उनका रूटीन था. जिसे वह खुशी-खुशी निभाते थे.

मक्की की रोटी और घी बहुत पसंद था
नरपत ने बताया था कि, एक्टर बीमार थे इस कारण डॉक्टर्स ने उनसे ऑर्गेनिक फूड खाने की सलाह दी. इसलिए वह अक्सर अपने गांव से बकरी का दूध और कुछ ताजी सब्जियां लेकर आते थे. irrfan-driver-narpat-singhड्राइवर ने इरफान की पसंद बताते हुए कहा कि, उन्हें मक्की की रोटी और गाय का घी खाना काफी पसंद था.

जानवरों को मारने के खिलाफ थे इरफान
वैसे आपको शायद ही मालूम होगा कि, इरफान जानवरों को मारकर खाने के सख्त खिलाफ थे. एक बार उन्होंने बताया था कि, अक्सर उनके पिता कहते थे कि, पठानों के घर में ये ब्राह्मण कैसे पैदा हो गया. मगर इरफान जानवरों से प्यार करते थे और जिंदादिल इंसान थे.

ये भी पढ़ेंः- जब लाखों लोग के बीच किंग खान पर भड़के थे इरफान खान, अपनी फिल्मों को बताया था वड़ा पाव..video