SBI ने बदले ये 5 बड़े नियम, नहीं अपनाया तो हो सकता है भारी नुकसान

0
1281
Loading...

देश का सबसे बड़ा बैंक भारतीय स्टेट बैंक ( SBI) समय समय पर अपने नियमों में बदलाव करता है। जिसका सीधा फायदा एसबीआई के ग्राहकों को मिलता है। इस बार भी बैंक ने कई बदलाव किए है। जो 1 अक्टूबर देश भर लागू हो जाएंगे। इन बदलावों का सीधा असर, लोन, चेक बुक, एटीएम, मिनिमम बैलेंस, आरटीजीएस और एनईएफटी पर पड़ेगा। इसलिए अगर आपका भी अकाउंट इसी बैंक में है। तो ये खबर आपके लिए बेहद जरूरी है।

घट जाएंगे चेक बुक में पन्ने
एसबीआई ने चेक बुक के नियमों में बहुत बड़ा बदलाव किया है। इस बदलाव से ग्राहकों के लिए चेक बुक महंगी हो गई है। बैंक ने चेक के शुल्क की नई सूची जारी की है। जिसके मुताबिक, अब आपको चेक के लिए ज्यादा पैसे देने होंगे। सूची के मुताबिक, अब बचत खाताधारकों को एक वित्त वर्ष में 25 की जगह सिर्फ 10 चेक ही फ्री मिलेंगे। इसके अलावा अगर आपको 10 चेक लेने है तो आपको 40 रुपये देने होंगे। इस पर आपको जीएसटी अलग से देना होगा। हालांकि पहले मुफ्त चेकबुक के बाद 10 चेक लेने पर 30 रुपये देने पड़ते थे।

चेक बाउंस होने पर लगेंगा जुर्माना
एसबीआई ने इस बार चेक रिटर्न के नियमों में भी बदलाव किया है। इन नए नियमों के बाद अब नियमों को और ज्यादा कड़ा कर दिया है। नए नियमों के अनुसार, एक अक्तूबर के बाद कोई भी चेक किसी तकनीक के कारण (बाउंस के अलावा) लौटता है तो चेक जारी करने वाले पर 150 रुपये और जीएसटी अतिरिक्त का चार्ज देना है। जीएसटी को मिलाकर यह चार्ज 168 रुपये होगा।

ATM के नियम में भी बदलाव
एक अक्तूबर से एसबीआई के एटीएम चार्ज भी बदल जाएंगे। बैंक के ग्राहक मेट्रो शहरों के एसबीआई एटीएम में से 10 से ज्यादा बार ही फ्री डेबिट लेन-देन कर सकेंगे। फिलहाल ग्राहक सिर्फ छह बार ही लेन-देन कर सकते है।

सस्ते में मिलेगा लोन
त्योहारों के मौके बैंक ने ग्राहकों को बहुत बड़ी खुशखबरी दी है। बैंक ने एक अक्टूबर से एमएसएमई, हाउसिंग और रिटेल लोन के सभी फ्लोटिंग रेट लोन के लिए एक्सटर्नल बेंचमार्क के रूप में रेपो रेट को अपनाने का फैसला किया है। एसबीआई के इस फैसले से सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उपक्रमों को काफी फायदा होगा।

मिनिमम बैंलेंस में 80 फीसदी राहत
एसबीआई ने ग्राहकों को मिनिमम बैलेंस में भी बड़ी छूट दी है। अब तक ग्राहको के लिए मंथली मिनिमम बैलेंस 5000 रुपये था लेकिन अब इसे घटाकर 3,000 रुपये कर दिया है। इसके अलावा पूर्ण शहरी इलाकों के खाताखारकों को मिनिमम बैलेंस नहीं रखने पर लगने वाला चार्ज भी कम कर दिया है। जिसके चलते अब अगर ग्राहकों के अकाउंट में 75 फीसदी से कम पैसे हुए, तो आपके 15 रुपये जीएसटी के साथ जुर्माना कटेगा। जो अब तक 80 रुपये था। वही अगर यही रकम 50 से 75 फीसदी कम हुई, तो जुर्माना 12 रुपये और जीएसटी लगेगा। जो अब तक 60 रुपये था। ये भी पढ़ें:-1 अक्टूबर से देश में बदल जाएंगे ये बड़े नियम, जेब पर पड़ेगा सीधा असर

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here