Categories
उत्तर प्रदेश राजनीति

YOGI ने अखिलेश पर साधा निशाना, ‘बबुआ’ को ‘कब्रिस्तान’ बनाने से फुरसत होती तब न राम मंदिर बनाते

रामपुर। विधानसभा चुनाव से पहले उत्तर प्रदेश में नेताओं की सियासी जुबान तेज हो गई है। रामपुर पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अखिलेश यादव पर तंज कसते हुए कहा कि रामभक्तों पर गोलियां चलाने वाले लोग आज कहते हैं कि अगर हम भी सत्ता में होते तो हम भी राम मंदिर बना देते। उन्होंने कहा कि वैसे भी ‘बबुआ’ को ‘कब्रिस्तान’ बनाने से फुरसत होती तब न राम मंदिर बनाते। उन्होंने कहा कि ‘रामपुरी चाकू’ का जिक्र करते हुए कहा कि हमने हर जिले को एक विशिष्ट पहचान दिलाने के लिए एक जनपद-एक उत्पाद (ओडीओपी) योजना शुरू की। रामपुर में बहुत खोजने के बाद भी कुछ नहीं मिल रहा है। आखिर में ‘रामपूरी चाकू’ को ओडीओपी बनाया गया जो इस जिले की पहचान है। सीएम योगी ने सपा का नाम लिए बिना कहा कि यही रामपुरी चाकू जब उनके हाथ में होता है तो गरीब की संपत्ति पर कब्जा होता है। व्यापारियों से लूट होती है लेकिन अच्छे लोगों के पास जब यही शस्त्र हो तो वह इससे धर्म-समाज-संस्कृति की रक्षा करते हैं। हम गुरु परंपरा को मानने वाले लोग हैं। रामपुरी चाकू आज जनपद की ओडीओपी है, पहचान है।

सीएम योगी ने सभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि यह वही उत्तर प्रदेश है जहां पहले किसी भी धर्मस्थल के नाम पर पैसा नहीं मिलता था। गरीब को मकान नहीं मिलता था। उन्होंने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि पिछली सरकारें गरीबों का शोषण करती थीं। दंगाइयों को प्रोत्साहित करती थीं। आतंकी घटनाओं को प्रेरित करते थीं। आतंवादियों के मुकदमे वापस लेते थीं। उत्तर प्रदेश में अब सब बदल गया है। आज साढ़े चार लाख नौजवानों को बिना भेदभाव सरकारी नौकरी मिली और किसानों का कर्ज माफ हुआ।

कानपुर, कन्नौज की छापेमारी

सीएम योगी ने कानपुर और कन्नौज की छापेमारी पर कहा कि समाजवादी पार्टी से जुड़े नेताओं के घरों से नोट की गड्डियां निकल रही हैं। यह खेत से नहीं निकल रहीं जो जनता के पैसे पर डकैती हुई वही बाहर आ रहा है। उन्होंने कहा कि तब हर तीसरे दिन दंगा होता था। आज सब जानते हैं कि अगर दंगा किया, गरीब की संपत्ति पर कब्जा किया, सरकारी संपत्ति में तोड़फोड़ की तो सात पीढ़ियां भरपाई करते-करते थक जाएंगी। आतंकियों, अपराधियों पर बुलडोजर चलाने में कोई संकोच नहीं किया जाएगा।

यह भी पढ़ेंः-अयोध्या में राम मंदिर, काशी में विश्वनाथ धाम तो मथुरा-वृंदावन कैसे छूट जाएगा: योगी