हाथरस केस: PFI का नाम आया सामने, तो गुस्से से तिलमिला गए ओवैसी, योगी सरकार से किए ऐसे तीखे सवाल

232

statement of Owaisi in hathras case: हाथरस की बेटी को कब मिलेगा इंसाफ? यह सवाल अब अलग-अलग मसलों के भागमभाग में कहीं न कहीं गुम हो चुका है, लेकिन विपक्ष के कुछ सारथी ऐसे भी हैं,  जो लगातार इस मसले को उठाकर योगी सरकार पर सवाल खड़े कर रहे हैं। उधर, हाथरस मामले में पीएफआई का किरदार सामने आते ही ओवैसी ने योगी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। ओवैसी का साफ कहना है कि पूरा देश यह जानना चाहता है कि हाथरस की बेटी को आखिर कब मिलेगा इंसाफ? ये भी पढ़े :हाथरस कांड में नया खुलासा, सामने आया घटना वाले दिन का Video, इन 4 लोगों की मिली मौजूदगी

PFI का नाम आया सामने 
बता दें कि हाथरस मामले में अब पीएफआई का नाम सामने आया है। प्रदेश सरकार लगातार कह रही है कि हाथरस मामले  में कुछ लोग दंगा भड़काने की साजिश रच रहे थे। इस मामले को लेकर विदेशों से भी फंडिंग हुई थी, जिसकी जांच ईडी अभी फिलहाल कर रही है। उधर, पीएफआई ( पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया)  के चार कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया था। इनके पास से विवादित साहित्य भी बरामद किए गए थे। इस मामले में मुखपत्र के संपादक को भी गिरफ्तार  किया गया था। पुलिस अब इन्हें रिमांड पर लेने की कोशिश कर रही है।  इनसे लगातार इस मामले को लेकर पूछताछ की जा सकती है।

योगी सरकार पर ओवैसी का हमला 
वहीं, अब हाथरस मामले के बहाने दंगा भंड़काने की साजिश में गिरफ्तार हुए पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के चार कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी पर ओवैसी ने प्रदेश सरकार पर निशाना साधा है। ओवैसी ने कहा कि यह वेबसाइट तो अजीबोगरीब है। ओवैसी ने कहा कि इस मामले में कोई भी सच्चाई नहीं है। जहां कहीं भी सरकार की गड़बड़ी होती है, वहां पर यह कहानी रच दी जाती है। अब यह कहानी पुरानी हो चुकी है। बच्ची के साथ रेप हुआ। बच्ची का इलाज नहीं करवाया है। परिजनों के इजाजत के बगैर आखिर क्यों बच्ची के शव का अंतिम संस्कार कराया गया। ओवैसी ने कहा कि क्या यह भी एक अंतरराष्ट्रीय साजिश है। आखिर कब तक सरकार अपनी नाकामियों क छुपाती रहेगी। बिहार चुनाव में इन सबकी गूंज सुनाई देगी। ये भी पढ़े :हाथरस केस में चौंकाने वाला खुलासा, कॉल रिकॉर्ड से खुली पीड़िता के भाई और आरोपी की सच्चाई, 104 बार..