yogi aditynath

लखनऊ। टोक्यो ओलंपिक और पैरा ओलंपिक में खिलाड़ियों के शानदार प्रदर्शन के बाद खेल के प्रति युवाओं में रूझान बढ़ा है। उत्तर प्रदेश सरकार खेलों के लिए संसाधन जुटा रही है। प्रदेश सरकार छोटे शहरों के प्रतिभावान खिलाड़ियों को बढ़ा मंच दे रही हैं। युवा ग्रामीण खिलाड़ियों को सुविधाओं के साथ खेल के मैदान व उपकरण मुहैया कराए जा रहे हैं। ज्ञात हो कि खिलाड़ियों की प्रतिभा निखारने के लिए विभिन्न जनपदों में 21 मल्टीपर्पज हाल बनाए जा रहे हैं। 6 महीने के अंदर लखनऊ, मेरठ, सोनभद्र और अयोध्या में मल्टीपर्पज हॉल बनकर तैयार हो जाएंगे। इस मल्टीपर्पज हाॅल में खिलाड़ी अभ्यास कर सकेंगे। मल्टीपर्पज हॉल में खिलाड़ियों को रनिंग ट्रैक के साथ दूसरी सुविधाएं मिलेंगी।

युवा कल्याण विभाग की ओर से खेलो इंडिया योजना के तहत ग्रामीण परिवेश के खिलाड़ियों को उच्च स्तर की सुविधा दिए जाने का काम किया जा रहा है। लखनऊ के मोहनलालगंज विकास खंड में मल्टीपर्पज हॉल निर्मित किया जा रहा है। इस हाॅल में खिलाड़ियों के अभ्यास के लिए रनिंग ट्रैक व नेचुरल कोर्ट की सुविधा होगी। अयोध्या के मिल्कीपुर में भी मल्टीपर्पज हॉल का निर्माण कार्य कराया जा रहा है। मेरठ के पंचाली खुर्द और सोनभद्र के नगवां में मल्टीपर्पज इंडोर हॉल का निर्माण गांव के युवा खिलाड़ियों को आगे बढ़ने में मदद करेगा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 6 महीने में इन चारों मल्टीपर्पज हॉल के निर्माण कार्य को पूरा करने के निर्देश दिए हैं।

ग्रामीण खिलाड़ियों पर विशेष ध्यान

युवा कल्याण विभाग की ओर से ग्रामीण युवाओं की खेल प्रतिभाओं को निखारने का काम किया जा रहा है। युवाओं में स्टेट ऑफ फिटनेस बनाए रखने के लिए खेल सुविधाओं में बढ़ोतरी की जा रही है। खेल इंडिया योजना के तहत 20 ग्रामीण मिनी स्टेडियम और 21 मल्टीपर्पज हॉल का निर्माण कराया जा रहा है। साथ ही कर्न्वेजेंस के जरिए ओपन जिम और खेल के मैदानों का विकास कराया जा रहा है।

अब गांवों में ही खेल प्रतियोगितायें

युवा कल्याण विभाग की ओर से 16 सितम्बर से ग्रामीण इलाकों में जोनल स्तर की प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाएगा, जो 30 सितम्बर तक चलेंगी। इसके बाद अक्तूबर में राज्य स्तर की प्रतियोगिताएं आयोजित की जाएंगी। इसमें खिलाड़ियों के बीच एथलेटिक्स, वॉलीबॉल, कबड्डी, कुश्ती व भारोत्तोलन प्रतियोगिताएं होंगी।

यह भी पढ़ेंः-योगी आदित्यनाथ का चुनावी दावा : कांग्रेस को कंधा देने के लिए दो लोग भी नहीं मिलेंगे