भ्रष्ट अधिकारियों पर चला योगी का चाबुक, 24 घंटे के अंदर दो IPS अफसरों पर गिरी गाज

150

उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ताबड़तोड़ भ्रष्ट अधिकारियों पर एक्शन लेने में चूक नहीं रहे हैं। इस बीच बुधवार को सीएम योगी ने महज 24 घंटे के दौरान दो आईपीएस असफरों को तत्काल रूप से निलंबित कर दिया। बताया जा रहा है महोबा के पुलिस अधीक्षक मणिलाल पाटीदार रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ पकड़े गए थे। जिसके बाद सीएम योगी ने सख्त रुख अपनाते हुए उन्हें निलंबित करने के आदेश जारी कर दिए। सूत्रों के अनुसार पाटीदार ने परिवहन में लगी गाड़ियों को चलाए जाने के हेतु अवैध रूप से पैसे की मांग की थी। जिसकी जानकारी विभाग के आलाधिकारियों को लगते हुए सीएम योगी ने टीम 11 की आपातकाल बैठक में तुरंत निलंबित करने का फैसला लिया। बताया जा रहा है कि पुलिस अधीक्षक मणिलाल पाटीदार के तत्काल प्रभाव से निलंबित किए जाने के बाद अरुण कुमार श्रीवास्तव को महोबा का चार्ज दिया गया है, जो कि बतौर पुलिस उपायुक्‍त कमिश्नर, लखनऊ में तैनात थे।

ये भी पढ़ें:-लॉकडाउन: सीएम योगी ने लगाई इन गतिविधियों पर रोक, 30 सितंबर तक रहेगी सख्त पाबंदी

इससे पहले सीएम योगी ने प्रयागराज के एसएसपी अभिषेक दीक्षित को सस्पेंड कर दिया था. बता दें कि आईपीएस अभिषेक दीक्षित पर अपराध नियंत्रण में नाकामी, क़ानून व्यवस्था में शिथिलता और भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगे हैं। इतना ही नहीं अफसर पर पुलिस मुख्यालय के निर्देशों का अनुपालन नहीं करने का भी आरोप लगा है।

बता दें कि 17 जून को पीलीभीत से उनका तबादला हुआ था और वह प्रयागराज के एसएसपी नियुक्त हुए थे. उन्‍हें डीजीपी मुख्‍यालय से संबद्ध कर दिया गया है. वहीं अब दीक्षित की जगह सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी को प्रयागराज का एसएसपी नियुक्त किया गया है।

बहरहाल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भ्रष्टाचार के खिलाफ अपना सख्‍त रुख जारी रखा है और यही वजह है कि अब तक कई आईपीएस अधिकारी निलंबित किए गए हैं. महोबा के एसपी मणिलाल पाटीदार से पहले अभिषेक दीक्षित, दिनेशचंद्र दुबे, अरविंद सेन, अतुल शर्मा और एन कोलांची भी भ्रष्टाचार के आरोप लगने के बाद निलंबित हो चुके हैं.

इसके अलावा वैभव कृष्ण, डॉ. सतीश कुमार और सुभाषचंद्र दुबे भी अलग-अलग कारणों से निलंबित हुए थे। मालूम हो कि सीएम योगी यूपी में भाजपा की सरकार बनने के बाद भ्रष्टाचार और कानून व्यवस्था में शिथिलता से कोई कॉम्प्रोमाइज नहीं करते हैं।

ये भी पढ़ें:-योगी सरकार ने खत्म किया Weekend लॉकडाउन, जानें क्या हुआ नया बदलाव