DINEHS SHRMA

लखनऊ। कोरोना संक्रमण की वजह से लगे लॉकडाउन के चलते सीबीएसई के साथ ही देश की कई राज्यों ने भी बोर्ड परीक्षाएं यानी की 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं रद्द कर दी है। इधर यूपी बोर्ड ने कॉलेजों की परीक्षाएं भी कैंसिल कर दी हैं। उत्तर प्रदेश सरकार ने मंगलवार (8 जून) को विश्वविद्यालयों और कालेजों की परीक्षाएं रद्द करने कि घोषणा कर दी है। योगी सरकार के इस फैसले के बाद अब 41 लाख छात्र-छत्राएं बिना परीक्षा ही अगली कक्षा में प्रमोट कर दिए जायेंगे। यूपी सरकार की तरफ से इसे लेकर दिशा-निर्देश जारी किये जा चुके हैं।

फाइनल ईयर के छात्रों को देनी होगी परीक्षा

विश्वविद्यालयों और कालेजों की परीक्षाएं रद्द करने कि घोषणा करते हुए राज्‍य के उपमुख्‍यमंत्री दिनेश शर्मा ने कहा कि इस बार राज्‍य के ग्रेजुएशन और पोस्‍ट ग्रेजुएशन के फर्स्‍ट ईयर के छात्रों को बिना परीक्षा, सेकेंड ईयर में प्रोमोट कर दिया जाए। इस दौरान उन्होंने बताया कि जो छात्र फाइनल ईयर में हैं। उन्‍हें परीक्षा देनी होगी। उन्होंने उम्‍मीद जताई की फाइनल ईयर के छात्रों की यह परीक्षा अगस्‍त में आयोजित की जा सकती है। विश्वविद्यालयों और कालेजों की परीक्षाएं रद्द किये जाने को लेकर राज्‍य सरकार की तरफ से जो गाइडलान्‍स जारी की गयी है उसमें यह कहा गया है कि फर्स्‍ट ईयर के अंकों को सेकेंड ईयर की परीक्षा के आधार पर तैयार किया जाएगा।

कोरोना महामारी की वजह से लिया फैसला 

बता दें कि राज्‍य सरकारें यह फैसला कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए छात्रों की सेहत की सुरक्षा के मद्देनजर कर रही है। गौरतलब है देश में इस साल कोरोना महामारी ने जबरदस्त तबाही मचाई हैं, जिसकी वजह से देश भर में लॉकडाउन का ऐलान कर दिया गया था और स्कूल कालेज लंबे समय तक बंद रहे। ऐसे बच्चों की पढाई भी काफी बाधित हुई है। इन्ही सब हालातों को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने विश्वविद्यालयों और कालेजों की परिक्षयायें रद्द करने छात्रों को प्रमोट करने का फैसला लिया है।

इसे भी पढ़ें:-यूपी की इस यूनिवर्सिटी ने किया गजब का कारनामा, छात्रों को दिए अंक देखकर सभी के उड़े होश

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here