उन्नाव मामला: छावनी में तब्दील हुआ गांव, जेसीबी से शव दफनाने की हो रही थी तैयारी, ग्रामीणों ने किया हंगामा

उन्नाव

यूपी के उन्नाव जिले की घटना ने एक बार फिर से सबको शर्मसार कर दिया है। जिले के असोहा थाना क्षेत्र के बबुरहा गांव में तीन नाबालिग दलित लड़कियां खेत में दुपट्टे से बंधी पड़ी मिलीं। इनमें दोनों लड़कियों की मौत का मामला गर्माता जा रहा है। इनमें दो लड़कियों की मौत हो चुकी थी जबकि तीसरी कानपुर के रिजेंसी हॉस्पिटल में जिंदगी और मौत के बीच जंग लड़ रही है। उसे वेंटीलेटर पर रखा गया है। विपक्ष लड़की को दिल्ली एयरलिफ्ट करने की मांग कर रहा है। बबुरहा गांव को छावनी में तब्दील कर दिया है। जगह-जगह बैरियर लग गए हैं।

इसे भी पढ़ें:- उन्नाव में दो दलित लड़कियों की संदिग्ध हालत में मौत, तीसरी की स्थिति गंभीर

मीडिया वाले भी मृतकों के परिजनों से नहीं मिल पा रही है। उन्नाव जनपद के नौ थानों की पुलिस फोर्स गांव में तैनात कर दी गयी है। इसके साथ ही 19 दरोगाओं, 70 मुख्य आरक्षी, 30 सिपाहियों की अतिरिक्त तैनाती की गई है। परिजनों को पुलिस द्वारा उठाए जाने के विरोध में ग्रामीण धरने पर बैठ गए हैं। एडीएम, एसडीएम व विधायक अनिल सिंह भी गांव पहुंच चुके हैं। जिसके बाद शव दफनाने के लिए जेसीबी मंगाई गई है। ग्रमीणों ने जेसीबी रोकते हुए नारेबाजी शुरू कर दी है।

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने ट्वीट में लिखा- उन्नाव की तीसरी बेटी को तुरन्त इलाज के लिए दिल्ली शिफ्ट किया जाए। हर हाल में बच्ची को बचाना है।

भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद ने अपने ट्वीटर अकाउंट से ट्वीट कर कहा- उन्नाव मामले की एकमात्र गवाह बच्ची का बेहतर इलाज व उसकी सुरक्षा सबसे आवश्यक है बच्ची को तत्काल एयर एंबुलेंस से एआईआईएमएस दिल्ली लाया जाए। यूपी सरकार का अपराधियों को संरक्षण व अपराधियों के केस में सरकार की कार्यशैली को देश हाथरस कांड में देख चुका है। उन्होंने कहा कि सरकार जान ले उन्नाव में हम, हाथरस नहीं दोहराने देंगे।

वहीं कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्वीट में लिखा- सिर्फ दलित समाज को ही नहीं उत्तर प्रदेश सरकार महिला सम्मान व मानवाधिकारों को भी कुचलती जा रही है। मगर वे याद रखें कि मैं और पूरी कांग्रेस पार्टी पीड़ितों की आवाज़ बनकर खड़े हैं और उन्हें न्याय दिलाकर ही रहेंगे।

उन्नाव एसपी आनंद कुलकर्णी ने इस मामले में बताया कि घटना के खुलासे के लिए पुलिस की 6 टीमें गठित कर दी गई हैं। साथ ही स्वाट व सर्विलांस टीमें भी काम कर रही हैं। उन्होंने आगे बताया, गंभीर किशोरी के बयान व पोस्टमार्टम रिपोर्ट खुलासे के लिए बेहद जरूरी और अहम हैं। बयान व पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है।

इसे भी पढ़ें:- फांसी से बचाने के लिए बेटे ने लगाई राष्ट्रपति से गुहार, मेरी मां को माफ कर दीजिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *