Wednesday, December 8, 2021

जमीन विवाद में जमकर फायरिंग में दो की मौत- छह घायल, गांव में तनाव के बीच भारी फोर्स तैनात

Must read

- Advertisement -
  • मुख्यमंत्री को बुलाने की मांग पर अड़े परिवारजन
  • आक्रोशित परिजन शव को रख कर अड़े

देवरिया। उत्तर प्रदेश के देवरियों में जमीन के विवाद में खुनी संघर्ष हो गया है। मंगलवार को हुए खुनी संघर्ष में जम कर गोलियां चलीं। हमलावरों ने दो सगे भाइयों की हत्या कर दी है। गोली लगने छह लोग घायल हो गये हैं। वारदात की सूचना मिलते ही एसपी समेत जिले के पुलिस अफसर मौके पर पहुंच गए। तनाव को देखते हुए गांव में भारी फोर्स लगा दी गई है। परिजनों में काफी रोष, आक्रोश है। परिजन शव ले कर बैठे हुए हैं। जिले बरहज थाना क्षेत्र के चकरा नोनार गांव के रहने वाले लालधारी यादव का उनके पड़ोसी हंसनाथ से काफी समय से जमीन विवाद था। लालधारी के भाई लल्लन यादव का पिछले दिनों निधन हो गया था। 25 नवंबर को उनका तेरहवीं थी। तेरहवीं की तैयारी के लिए लालधारी के बेटे कोकिल (उम्र 40 वर्ष) और रमेश ( उम्र 39 वर्ष) परिजनों के साथ मंगलवार की सुबह घर के आसपास सफाई कर रहे थे।

- Advertisement -

devriya goli

सफाई के दौरान हंसनाथ के परिवार से उनका विवाद शुरू हो गया। आरोप है कि कहासुनी के दौरान ही हंसनाथ के बेटे बैजनाथ और अन्य ने लाइसेंसी बंदूक और अवैध असलहे से लालधारी के परिवार पर हमला बोल दिया। इस दौरान हमलावर फायरिंग करने लगे। हमले में गोली लगने से कोकिल यादव और रमेश यादव की मौके पर ही मौत हो गई। गोली लगने से लालधारी ( उम्र 70 वर्ष) और उनके पक्ष के बेचू यादव (उम्र 50 वर्ष) पुत्र रामनाथ, राजाराम ( उम्र 69 वर्ष) पुत्र बच्चन यादव, देवानंद ( उम्र 14 वर्ष) पुत्र हरेराम यादव, अंकित यादव (उम्र 15 वर्ष) पुत्र उमेश यादव और विनोद यादव ( उम्र 32 वर्ष) घायल हो गये हैं। सभी को जिला अस्पताल पहुंचाया गया है। डॉक्टरों ने प्राथमिक उपचार के बाद गंभीर रूप से घायल बेचू यादव, राजाराम, देवानंद और अंकित यादव को मेडिकल कॉलेज गोरखपुर रेफर कर दिया। लालधारी और विनोद का जिला अस्पताल में इलाज चल रहा है।

घटना की सूचना मिलते ही एसपी डॉ. श्रीपति मिश्र जिला अस्पताल की इमरजेंसी पर पहुंच गये हैं। वारदात की जानकारी लेने के बाद वे अन्य पुलिस अधिकारियों के साथ घटनास्थल पर भी गये हैं। चकरा नोनार गांव में तनाव को देखते हुए भारी फोर्स लगा दी गई है। घटना में मारे गए दोनों सगे भाई कोकिल और रमेश नैनिताल में प्राइवेट नौकरी करते थे। दोनों चाचा के तेरवहीं में शामिल होने के लिए घर आए थे। दो सगे भाइयों की मौत और छह घायल के बाद गांव में तनाव की स्थिति बनी हुई है।

पुलिस को शव सौंपने से इनकार

घटना से गुस्साए घरवालों ने पुलिस को शव देने से इंकार कर दिया है। परिजन मुख्यमंत्री को बुलाने की मांग पर अड़े हैं। वह पुलिस और प्रशासन पर मामले में लापरवाही का आरोप लगाते हुए उच्चस्तरीय जांच की मांग कर रहे हैं। घटना की सूचना पर जिला अस्पताल की इमरजेंसी में बड़ी संख्या में लोगों की भीड़ जमा हो गई है। भीड़ को देखते हुए अस्पताल परिसर पुलिस छावनी में तब्दील हो गया है। सीओ श्रीयश त्रिपाठी भारी पुलिस बल के साथ मौके पर मौजूद हैं। भाजपा के जिलाध्यक्ष डॉ. अंतर्यामी सिंह और सपा के जिलाध्यक्ष डॉ. दिलीप यादव ने मौके पर पहुंच कर घटना की जानकारी ली।

यह भी पढ़ेंःशीर्ष पुलिस अधिकारियों के साथ मंथन करेंगे PM MODI , 10 घंटे तक रहेंगे साथ-साथ

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article