shshank

सीतापुर। शासन और प्रशासन के बीच खींतचान हमेशा चलती ही रहती है। शासन अपने अधिकार को उपयोग करता है तो प्रशासन अधिकार के साथ सत्ता की धौंस भी जमाता है। ऐसा ही एक मामला सीतापुर में सामने आया है। उत्तर प्रदेश के सीतापुर में महोली से बीजेपी विधायक शशांक त्रिवेदी ने गैरजिम्मेदाराना बयान दिया है जिसका वीडियो वायरल हो रहा है। वीडियो में बीजेपी विधायक एसडीएम को जूतों से मारने की धमकी दे रहे हैं। विधायक शशांक त्रिवेदी एसडीएम के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने की बात कह रहे हैं। बताया जा रहा है 4 सितंबर को बीजेपी विधायक शशांक त्रिवेदी महोली तहसील के पकरिया पांडेपुर गये थे। जहां पर एसडीएम की मौजूदगी में तहसील प्रशासन द्वारा दिव्यांग का मकान गिराया गया था। सूचना पाकर मौके पर पहुंचे विधायक ने खुद बैठकर दिव्यांग का मकान बनवाया था। बताया जा रहा है कि यह वीडियो लगभग 5 दिन पुराना है।

खाकी के सामने वर्दी का ये हाल

विधायक का धमकी भरा वीडियो वायरल होने के बाद एसडीएम महोली पंकज राठौर का बयान भी सामने आया है। एसडीएम ने जिस प्रकार से अपनी सफाई जाहिर की है, उससे साफ तौर पर दिख रहा है कि खादी के आगे वर्दी झुक गयी है। एसडीएम महोली पंकज राठौर का कहना है कि विधायक के बारे में मै यही समझ पा रहा हूं कि उनको गलत जानकारी मिली थी। उनकी भावनाएं आहत हुई। मैं उनकी भावनाओं का सम्मान करता हूं। एसडीएम महोली के द्वारा जारी बयान में जिस सम्मान की बात कही जा रही है तो बीजेपी विधायक शशांक त्रिवेद्वी के बयानों को सुने तो वह एसडीएम महोली को जूते मारने की बात फोन पर कर रहे हैं। इतना ही नही एसडीएम महोली के खिलाफ थाने में एफआईआर लिखाने की बात भी कह रहे हैं।

धमकी पर कही ये बात

अब जूते मारने की बात करने वाले बीजेपी विधायक की बात को एसडीएम महोली किस प्रकार की भावनाओं को समझ रहे हैं, यह तो खुद एसडीएम महोली ही बता सकते हैं। हालांकि एसडीएम महोली का कहना है कि अपशब्दों, अपमानजनक शब्दों का प्रयोग किसी भी तरह का संवैधानिक अधिकार नहीं हैं। मेरा विधायक जी या किसी अन्य के बारे में भेदभाव नहीं है।

ज्ञात हो कि एसडीएम महोली पंकज कुमार राठौर के द्वारा ग्राम समाज की जमीन पर दिव्यांग द्वारा किए गए कब्जे को हटवाए जाने को लेकर बीजेपी एमएलए शशांक त्रिवेदी अपने लाव लश्कर के साथ मौके पर पहुंचे थे। शशांक त्रिवेदी के द्वारा एसडीएम महोली को अपशब्द कहे गए थे, जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

यह भी पढ़ेः-सीएम योगी ने शिक्षामित्रों को दी बड़ी सौगात, अनुदेशकों और रसोइयों को मिलेगा लाभ