Home उत्तर प्रदेश बस्ती : पत्रकारों को बदनाम करने की साजिश में लगा ये फर्जी...

बस्ती : पत्रकारों को बदनाम करने की साजिश में लगा ये फर्जी पत्रकार…

0
644

अगर हम इत्मीनान से बैठकर अतीत की इबारतों को खंगाले और पत्रकारिता के इतिहास के अध्यायों पर गौर फरमाएं तो हम इस बात से बखूबी रूबरू होंगे कि ‘पत्रकारिता’ एक मिशन है। पत्रकारिता वो मिशन है, जो समाज में पथ पर्दशक की भूमिका निभाता है। पत्रकारिता वो मिशन है, जो समाज को अपने दीयों की रोशनी से रोशन करता है, लेकिन अफसोस आज की तारीख में कुछेक ऐसे फर्जी पत्रकारों का उदय हो चुका है, जो पत्रकारिता जैसे उद्देश्यपूर्ण, निष्ठावान और प्रतिभावान क्षेत्र को कलंकित करने में मसरूफ हैं। ये भी पढ़े :बस्ती में मासूम बच्चों के लिए अमूल बना जानलेवा, दुकानदार बेच रहे हैं एक्सपायरी डेट का दूध

इसी बीच हमारे पास एक ऐसे फर्जी पत्रकार की ख़बर सामने आई है, जिसने संपूर्ण पत्रकारों की जमात को कलंकित करने का काम किया है। दरअसल, इस फर्जी पत्रकार का नाम दिलीप पाण्डेय बताया जा रहा है। इस फर्जी पत्रकार ने पत्रकारिता का परचम लहराते हुए अपने दलाली के अड्डे को फलीभूत करने का काम शुरू कर दिया है। वहीं, बीते दिनों इसने अलग-अलग मीडिया संस्थानों में कार्यरत रहने के दौरान फर्जी आईडी कार्ड के माध्यम से मासूम और निर्दोष लोगों के साथ  फर्जीवाड़े का काम शुरू कर दिया है।

दरअसल, ये अपने आपको ‘ए-1 टीवी’ न्यूज़ चैनल का पत्रकार बताता है और संस्थान के आईडी कार्ड के माध्यम से कई मासूम और निर्दोष लोगों के साथ फर्जीवाड़ा करता है। ये फर्जी पत्रकार लोगों पर अपने पत्रकार होने का धौंस जमाता है और उनके साथ फर्जीवाड़ा करता है। वहीं, जब यूपी वार्ता की टीम के संज्ञान में ये पूरा मामला आया तो हमारी टीम ने फौरन ‘ए-1 टीवी’ चैनल के स्टेट हेड से पूछताछ की तो पता चला कि इसे काफी दिनों पहले ही इसके गलत आचरण के कारण संस्थान से बाहर कर दिया गया था।

इसी बीच, इसी फर्जी पत्रकार ने अनिल कुमार नाम के एक शख्स के साथ फर्जीवाड़ा किया। अनिल के मुताबिक, फर्जी पत्रकार ने उसे चपरासी की नौकरी दिलाने के एवज में 50 हजार रुपए ठग लिए। वहीं, उसकी मौसी के साथ मनरेगा कार्ड के नाम पर 30 हजार रूपए की ठगी कर ली। इस पूरे मामले को विस्तार से जानने के लिए नीच दिए वीडियो पर क्लिक करें।

यूपी के बस्ती जिला में फ़र्जी पत्रकार का भंडाफोड़ .

Posted by UP Varta on Saturday, November 2, 2019

इसके इतर इस फर्जी पत्रकार के कई सारे ऑडियो रिकॉर्डिंग भी वायरल हुए हैं, जिसमें ये बंदूक का  लाइसेंस दिलवाने के एवज में 60 हजार रूपए लिए। वहीं, इसके इतर बताया जा रहा है कि ये फर्जी पत्रकार अपने फर्जी मीडिया आईडी कार्ड के नाम से गरीब मजदूर लोगों से पैसा हड़पने का काम करता था। इतना ही नहीं, कई पुलिसकर्मियों के साथ फोटो खींचवाकर सोशल मीडिया पर वायरल करके जनता के बीच में अपना दबदबा बनाने की कोशिश करने में लगा रहता है।

 

वहीं, जब वीरेन्द्र कुमार सहित अन्य लोगों के संज्ञान में ये मामला आया तो उन्होंने फर्जी पत्रकार दिलीप पाण्डेय के खिलाफ पुलिस अधीक्षक बस्ती, जिलाधिकारी बस्ती व मुख्यमंत्री जनसुनवाई पोर्टल पर इसकी शिकायत की, तो इस फर्जी पत्रकार ने अपनी जान का झूठा खतरा बताना शुरू कर दिया, ताकि अपने बचाव की दिशा में अपने नापाक चाल  को अंजाम दे सके।

फिलहाल, ये पूरा मामल गौर थाना पुलिस और पुलिस अधीक्षक बस्ती के संज्ञान में आ चुका है। अब ऐसे में ये देखने वाली बात होगी की पुलिस और प्रशासन इस फर्जी पत्रकार के खिलाफ क्या कार्रवाई करती है। वहीं, इस फर्जी पत्रकार की शिकायत जिला सहायक सूचना निदेशक बस्ती से भी की गई है। ये भी पढ़े :बस्ती: इस शख्स को प्यार की चुकानी पड़ी भारी कीमत, जान से धोना पड़ा हाथ

 

Loading...

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here