Categories
उत्तर प्रदेश

निजी स्कूल में तीसरी कक्षा की बच्ची से रेप, आहत डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने रद किया दौरा

वाराणसी । लहरतारा स्थित निजी स्कूल में बच्ची से दरिंदगी की घटना के बाद दुःखी डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने उस स्कूल की दूसरी शाखा का दौरा रद कर दिया है। उन्हें विद्यालय की वरुणा शाखा में आयोजित स्वर्ण जयंती समारोह में जाना था। घटना से आहत डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने कहा कि बच्ची के परिजन जैसा चाहेंगे, वैसी कार्रवाई होगी। यूपी कॉलेज में मंडलीय खेलकूद प्रतियोगिता में मुख्य अतिथि के तौर पर आये उपमुख्यमंत्री ने कहा कि स्कूल में बच्ची से दरिंदगी की घटना दुखद है। बच्ची से हुई वारदात शासन के संज्ञान में हैं और इसपर कड़े कदम उठाने को कहा गया है। जिला प्रशासन परिवार के संपर्क में है। आरोपी भी गिरफ्तार किया जा चुका है। उन्होंने कहा, इस प्रकरण पर किसी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। लहरतारा स्थित एक स्कूल के वाशरूम में कक्षा तीन की छात्रा के साथ दुराचार करने वाले सफाईकर्मी कैंट थाना क्षेत्र के मानस नगर पसियाना निवासी अजय कुमार उर्फ सिंकू के खिलाफ एनएसए लगाया जाएगा। डीसीपी वरुणा विक्रांत वीर ने बताया कि इसकी कवायद शुरू कर दी गई है। आरोपी पर सख्त कार्रवाई होगी।

gang rape

इस पूरे प्रकरण की जांच और कार्रवाई के लिए पुलिस आयुक्त ए सतीश गणेश ने एसआईटी गठित कर दी है। डीसीपी वरुणा के नेतृत्व में 6 सदस्य कमेटी गठित है। इस टीम में डीसीपी विक्रांत वीर, एडीसीपी प्रबल प्रताप सिंह, एसीपी चेतगंज अनिरुद्ध कुमार, सिगरा थाना प्रभारी बैजनाथ, महिला थाना प्रभारी सुमित्रा देवी और महिला सिपाही अनिता चैहान हैं। पुलिस अधिकारियों ने शनिवार को भी स्कूल में घटनास्थल, शौचालय का मुआयना किया। बच्ची के परिजनों से मिलकर न्याय दिलाने की बात कही।

परिजनों पर प्रबंधन बनाता रहा दबाव

निजी स्कूल में रेप का मामला सामने आने पर परिजनों द्वारा शिकायत करने के बाद स्कूल प्रशासन ने पहले मामले को दबाने का प्रयास किया। शुक्रवार दोपहर कक्षा तीन की नौ वर्षीय बच्ची के साथ वॉशरूम में स्वीपर ने रेप किया। बच्ची के परिजनों की शिकायत पर सिगरा पुलिस ने कैंट थाना क्षेत्र के मानस नगर पसियाना निवासी अजय कुमार उर्फ सिंकू को पॉक्सो एक्ट और दुराचार का मामला दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया।

परिजनों ने बताया कि कक्षा तीन में पढ़ने वाली बच्ची जब वॉशरूम में गई गई तो स्कूल का सफाई कर्मचारी भी वहां घुस गया और लड़की से रेप किया। बाहर आने पर सफाईकर्मी ने बच्ची को ये घटना किसी को बताने से मना किया। आरोपी ने बच्ची को धमकी भी दी। इसके बाद डरी-सहमी लड़की कक्षा में आ गई और इस घटना के बारे किसी को नहीं बताया। दोपहर करीब दो बजे छुट्टी के बाद जब घर पहुंची तो उसने अपनी मां को इसके बारे में बताया। बच्ची की बातों को सुनकर घर वाले दंग रह गये। परिजनों ने बालिका को लेकर स्कूल पहुंचे और यहां प्रबंधन से शिकायत की. यहां पर फुटेज देखने के बाद स्कूल प्रशासन ने शिकायत ना करने का दबाव बनाया। कई घंटों तक परिजनों पर प्रबंधन दबाव बनाता रहा। जब परिजन पुलिस से शिकायत पर अड़े रहे तो प्रबंधन ने शिकायत की और परिजनों ने भी पुलिस को इस घटना को लेकर सूचित किया। जब परिवार के सदस्य बालिका को लेकर स्कूल पहुंचे तो स्कूल मालिकों ने बदनामी का डर दिखाकर उसे मैनेज करने की कोशिश की और पुलिस से शिकायत नहीं करने का दबाव बनाया।

लखनऊ शिकायत पर एक्शन में आई पुलिस

स्कूल प्रबंधन द्वारा इस घटना को दबाने के लिए परिजनों पर लगातार दबाव बना रहा था। पीड़ित बच्ची के परिजनों ने लखनऊ में उच्चाधिकारियों से शिकायत की तो वहां से पूछताछ शुरू हुई तो पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया। अब परिजनों ने स्कूल प्रबंधन के खिलाफ भी कार्रवाई की मांग की है।

यह भी पढ़ेंः-दलित परिवार की हत्या से पहले मां-बेटी से गैंगरेप, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में आयी भीषण हैवानियत