दागी उम्मीदवारों से सजी पहले चरण की सियासत, एडीआर ने जारी की प्रत्याशियों की ये रिपोर्ट

0
262
vidhansabha

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनावों में पहले चरण के उम्मीदवारों पर एडीआर की रिपोर्ट आ चुकी है। जिसमें दागी उम्मीदवार, प्रत्याशियों की संख्या आश्चर्यजनक रूप में बढ़ी है। पहले चरण की 58 सीटों पर हो रहे चुनाव में सपा के 75 फीसदी उम्मीदवारों पर आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं। पहले चरण में चुनाव लड़ रहे 156 उम्मीदवार ऐसे हैं जिनके ऊपर आपराधिक मामले पहले से हैं। बीजेपी के 57 में से 29 और कांग्रेस के 58 में से 21 प्रत्याशी दागी हैं जिन पर मुकदमा दर्ज है। समाजवादी पार्टी के 28 में से 21 प्रत्याशियों पर गंभीर मामले दर्ज हैं। आरएलडी के 29 में से 17 उम्मीदवारों पर मामले दर्ज हैं। इसी तरह बसपा के 56 में से 19 और आम आदमी पार्टी के 52 में से 8 प्रत्याशियों पर आपराधिक मामले विचाराधीन हैं। मेरठ के कैंट से बीजेपी प्रत्याशी अमित अग्रवाल सबसे अमीर प्रत्याशी हैं। अब तक के घोषित प्रत्याशियों में सबसे ज्यादा सम्पत्ति घोषित किया है।

उत्तर प्रदेश चुनाव के पहले चरण के लिए 12 महिलाओं के खिलाफ अपराध के आरोप हैं और छह पर हत्या का आरोप है। ‘द एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स’ (एडीआर) ने कहा कि उसने राज्य के 11 जिलों में 58 विधानसभा सीटों से राजनीतिक दलों के 615 उम्मीदवारों और निर्दलीय उम्मीदवारों के स्व-हलफनामों का विश्लेषण किया है। एडीआर ने कहा कि कुल 623 उम्मीदवार मैदान में हैं। आठ के हलफनामों का विश्लेषण नहीं किया जा सका क्योंकि वे स्कैन नहीं किए गए थे या अधूरे थे।

अपने हलफनामों में अपने खिलाफ प्रत्याशियों ने आपराधिक मामले घोषित किए हैं। एडीआर के अनुसार विश्लेषण किए गए 615 उम्मीदवारों में से 156 ने अपने खिलाफ आपराधिक मामले घोषित किए हैं। 121 उम्मीदवारों के खिलाफ गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं। एडीआर ने कहा कि प्रमुख दलों में सपा के 28 उम्मीदवारों में से 21 (75 प्रतिशत), रालोद के 29 उम्मीदवारों में से 17 (59 प्रतिशत), बीजेपी के 57 उम्मीदवारों में से 29 (51 प्रतिशत), कांग्रेस के 58 उम्मीदवारों में से 21 (36 प्रतिशत), बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के 56 उम्मीदवारों में से 19 (34 प्रतिशत) और आम आदमी पार्टी (आप) के 52 उम्मीदवारों में से आठ (15 प्रतिशत) ने अपने हलफनामों में अपने खिलाफ आपराधिक मामले घोषित किए हैं। पहले चरण के बाद शेष सभी चरण की रिपोर्ट आने के बाद दागी उम्मीदवारों की तस्वीर स्पष्ट होगी।

ये भी पढ़ेंः-363 सांसदों-विधायकों पर आपराधिक मुकदमे, दोष सिद्ध होने पर कर दिये जायेंगे अयोग्य