marriage

आजमगढ़। खुद को जिन्दा साबित करने के लिए 18 साल तक सिस्टम से लड़ने वाले उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले के अमिलो गांव निवासी लाल बिहारी (मृतक) (Deceased Lala Bihari) एक बार फिर सुर्ख़ियों में आ गए हैं। इसकी वजह यह है कि मृतक लाल बिहारी अपनी 56 वर्षीय पत्नी कर्मा देवी से फिर से शादी करने जा रहे हैं। यह शादी वह 2022 में करेंगे। जब वह 28 साल के हो जायेंगे।lal bihari गौरतलब है कि यूपी के आजमगढ़ जिले के अमिलो गांव निवासी लाल बिहारी को सरकारी रिकॉर्ड में ‘मृत’ घोषित कर दिया गया था। इसके बाद खुद को जिन्दा साबित करने के लिए उन्होंने लंबी कानूनी लड़ाई लड़ी थी। सरकरी रिकार्ड में जिन्दा होने के बाद ‘मृतक’ लाल बिहारी (Deceased Lala Bihari) अब अपनी 56 वर्षीय पत्नी कर्मी देवी से दोबारा शादी करने की योजना बना रहे हैं क्योंकि उन्‍हें दोबारा जिंदा हुए 27 साल हो चुके हैं। मृतक लाल बिहारी (Deceased Lala Bihari) को 30 जून 1994 को जीवित घोषित किया गया था। शादी को लेकर मृतक लाल बिहारी का कहना है कि, ’27 साल पहले सरकारी रिकॉर्ड में मेरा पुनर्जन्म हुआ था।lal bihari शादी समारोह अगली साल यानी 2022 में होगा। जब मैं सरकारी रिकॉर्ड में अपने पुनर्जन्म के बाद 28 साल का हो जाऊंगा।’ गौरतलब है कि मृतक लाल बिहारी (Deceased Lala Bihari) के तीन बच्चे हैं- जिनमें दो बेटियां और एक बेटा। इन सभी की शादी हो चुकी है। 66 वर्षीय लाल बिहारी (Lala Bihari) कहते हैं कि वह अपनी पत्नी से पुनर्विवाह इसलिए करना चाहते हैं ताकि लोगों का ध्यान ‘जीवित मृतकों’ की दुर्दशा की ओर आकर्षित करा सकें। मृतक लाल बिहारी (Deceased Lala Bihari) का कहना है कि ‘मैंने अपना केस लड़ा और जीता, लेकिन वास्तव में सिस्टम में बहुत कुछ नहीं बदला है, मैं 18 साल तक सरकारी रिकॉर्ड में ‘मृत’ रहा, अभी भी ऐसे लोग हैं जो सरकारी रिकॉर्ड में मृत घोषित हैं और उनकी जमीन को रिश्तेदारों द्वारा सरकारी अधिकारी की मिलीभगत से हड़प लिया गया है।lal bihari उन्होंने कहा ‘मैं पिछले कई दशक से ऐसे पीड़ितों की मदद कर रहा हूं, लेकिन अभियान जारी रहना चाहिए।’ बता दें लाल बिहारी आजमगढ़ जिले के अमिलो गांव के रहने वाले हैं और उन्हें आधिकारिक तौर पर 1975 में मृत घोषित कर दिया गया था। लाल बिहारी ने खुद को जिन्दा साबित करने के लिए लंबी कानूनी लड़ाई लड़ी थी। इसी लड़ाई के दौरान उन्होंने ने खुद के नाम में ‘मृतक’ शब्द जोड़ लिया था। उन्होंने अपने जैसे मामलों को उजागर करने के लिए एक मृतक संघ भी बनाया। मृतक लाल बिहारी के जीवन पर हाल ही में ‘कागज’ नाम की एक फिल्म भी बनाई गयी है। इस फिल्म का निर्देशन फिल्म निर्माता सतीश कौशिक ने किया था और अभिनेता पंकज त्रिपाठी ने मृतक लाल बिहारी का किरदार निभाया है।

इसे भी पढ़ें:-अनोखा : अब इस माता-पिता ने कोर्ट से मांगी अपने ही वयस्क संतान से शादी की अनुमति

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here