women power

लखनऊ। आधी आबादी को नजर अंदाज कर कोई भी समाज, कोई भी प्रदेश या देश समर्थ नहीं बन सकता है। नारी सशक्तीकरण का यह अभियान प्रदेश और देश को समर्थ बनाने का ही हिस्सा है। यह बातें शनिवार को महिलाओं एवं बालिकाओं की सुरक्षा, सम्मान एवं स्वावलम्बन के लिए यूपी सरकार द्वारा संचालित ‘मिशन शक्ति के तीसरे चरण के शुभारंभ के अवसर पर प्रदेष के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कही। उन्होंने कहा कि ‘मिशन शक्ति‘ के तीसरे चरण का यह अभियान 31, दिसंबर 2021 तक चलेगा। आज राज्य के सभी 75 जिलों में मिशन शक्ति कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। प्रत्येक जिले में उत्कृष्ट कार्य करने वाली 75-75 महिलाओं को सम्मानित किया गया। उन्हांेने कहा कि इस कार्यक्रम का राज्य के 58 हजार ग्राम पंचायतों में सीधा प्रसारण किया जा रहा है जिससे माताओं-बहनों को शासन की योजनाओं की जानकारी मिल सके। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि 2017 से पहले उत्तरप्रदेश में असुरक्षा का भाव था और जब समाज में असुरक्षा का भाव हो तो स्वाभाविक रूप से उसका प्रभाव उसके सम्मान और स्वावलंबन पर पड़ता है। 2017 में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनने के बाद असुरक्षा की मनोवृत्ति दूर करने के लिए नारी सुरक्षा का कार्यक्रम शुरू किया गया। उत्तर प्रदेश में मिशन शक्ति के दो चरण आगे की ओर तेजी से बढ़े।

Women npower 1

सुरक्षा का अहसास करायेंगी महिलायें
योगी आदित्यनाथ कोरोना वायरस के खिलाफ चल रही गतिविधियों से अवगत कराया। कोरोना प्रबंधन पर उन्होंने कहा कि 24 करोड़ की आबादी वाले उत्तरप्रदेश में आज सिर्फ कोरोना के 24 मामले आए हैं। मुख्यमंत्री ने बताया कि हमने डेढ़ लाख पुलिस की भर्ती की है। इसमें 20 प्रतिशत बालिकाओं की भर्ती हो। आज से प्रदेश में दस हजार पुलिस बीटों पर महिला पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है। पहले पुलिस में महिला भर्ती होती थी लेकिन उन्हें फील्ड ड़यूटी देने से परहेज करते थे। ये महिला पुलिसकर्मी महिलाओं की समस्याओं का समाधान करेंगी और सभी लोगों को सुरक्षा का अहसास कराएंगी।

women power 2

योगी ने कहा ने प्रदेश के पंचायत के चुनाव संपन्न हुए जिसके बहुत ही बेहतरीन परिणाम आये हैं। पंचायत चुनाव में लगभग 54 फीसद स्थानों पर महिला प्रधान, 56 फीसद जिला पंचायत अध्यक्ष तथा 54 फीसद महिला ब्लाक प्रमुख चुनी गई हैं। महिला सशक्तीकरण का प्रयास सफल हो रहा है। उन्होंने कहा कि यह अभियान नारी सुरक्षा और स्वावलंबन की दिशा में मील का पत्थर साबित होगा। योगी आदित्यनाथ ने रक्षा बंधन पर्व की महिलाओं को बधाई दी। कार्यक्रम के दौरान अतिथियों द्वारा ‘मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के अन्तर्गत 1.55 लाख बालिकाओं के खाते में धनराशि ऑनलाइन स्थानांतरित की गई। योजना के लिए 30 करोड़ रुपये से अधिक का प्रावधान किया गया है। इसके पहले सात लाख 81 हजार बालिकाओं को लाभ दिया जा चुका है। इसमें बालिका के जन्म से लेकर उसकी पढ़ाई तक 15 हजार रुपये बालिका के नाम पर सरकार उपलब्ध कराती है और यह राशि छह चरणों में उनके खाते में दी जाती है।

इसके पहले मिशन शक्ति के प्रथम व द्वितीय चरण में उल्लेखनीय प्रदर्शन करने वाली 75 महिलाओं को निर्मला सीतारण द्वारा सम्मानित भी किया गया। इस अवसर पर 59 हजार ग्राम पंचायतों में ‘मिशन शक्ति कक्ष का शुभारम्भ और बदायूं में वीरांगना अवंतीबाई बटालियन के प्रांगण की आधारशिला रखी गई। अतिथियों का स्वागत करते हुए महिला कल्याण तथा बाल विकास व पुष्टाहार राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) स्वाति सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के मार्गदर्शन में मिशन शक्ति की शुरुआत अक्टूबर (शारदीय नवरात्र) 2020 में हुई और आज महिलाओं की सामाजिक और आर्थिक स्थिति में भारी बदलाव आया है। इस कार्यक्रम में उप मुख्यमंत्री डॉक्टर दिनेश शर्मा, वित्त व संसदीय कार्य मंत्री सुरेश कुमार खन्ना महिला कल्याण राज्यमंत्री स्वाति सिंह, मुख्य सचिव आरके तिवारी और डीजीपी मुकुल गोयल आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ेंःगंगा एक्सप्रेस-वे के लिये 5,100 करोड़ रुपए का लोन ट्रांसफर, ​निर्मला सीतारमण ने की योगी की तारीफ