नेपाल तक जुड़े हैं गोरखपुर कांड में आतंकी तार? सामने आई एटीएस की पूछताछ में कई बातें

गोरखनाथ मंदिर जाकर अब्बासी के आने और पकड़े जाने की खबर की भी जांच एसटीएफ की टीम कर रही है। इसका एक नक्शा भी बनाया गया है।

0
1019
गोरखनाथ मंदिर

बीते दिन गोरखनाथ मंदिर की सुरक्षा में तैनात सिपाहियों पर हमला होने की खबर ने काफी सुर्खियां बटोरी। अब इस हमले के आरोपी अहमद मुर्तुजा अब्बासी के लैपटॉप और मोबाइल फोन की जांच की गई जिसके बाद कई सारे सुराग पुलिस के हाथ लगे हैं। ऐसा कहा जा रहा है कि अब्बासी प्रतिबंधित इस्लामिक प्रचारक जाकिर नायक को फॉलो करता है। यूट्यूब पर उनको सुनता है। एसटीएफ और पुलिस टीम ने काफी सबूत पाए हैं। पेन ड्राइव में भड़काऊ वीडियो एसटीएफ की टीम को प्राप्त हुए।

Read More-अल्ला-हू-अकबर का नारा लगाते हुए गोरखनाथ मंदिर में घुसने की कोशिश, सुरक्षाकर्मियों पर किया हमला …

उनके फोन पर जितने भी नंबर हैं। उनकी जांच हो रही है। अधिकतर नंबर मुंबई के पाए गए हैं। खबरों के अनुसार हमले के आरोपी अहमद मुर्तजा बाकी की पूछताछ के बाद पुलिस की 5 टीमें उसके हर बयान पर गहराई से जांच कर रही हैं। गोरखनाथ मंदिर जाकर अब्बासी के आने और पकड़े जाने की खबर की भी जांच एसटीएफ की टीम कर रही है। इसका एक नक्शा भी बनाया गया है।

एसटीएफ की अभी तक जांच से एक बात साफ हो चुकी है कि आरोपी सिरफिरा नहीं है। वह इस हमले के अंतर्गत बड़ी वारदात को पूरा करना चाहता था, किस और किसके कहने पर वह करना चाहता था। इस बारे में अभी कोई खुलासा नहीं हो पाया।

इस जांच के दौरान पता चला है कि अहमद मुर्तजा बाकी के कमरे से एक अरबी भाषा में लिखी एक किताब प्राप्त हुई है। किताब कैसे और कहां से खरीदी गई। इसकी जांच अभी एसटीएफ की टीम कर रही है।

पहले से ही मुर्तजा एसटीएस की रडार पर लटका हुआ था। बीते दिन शनिवार को लखनऊ की नंबर प्लेट लगी एक बाइक से दो लोग अहमद मुर्तजा बाकी से मिलने उसके घर भी पहुंचे थे। करीब 1 घंटे तक बातचीत के बादशाही मुर्तजा घर से लापता था।

पुलिस ने जांच में पता लगाया कि घर से निकलने के बाद मुर्तजा नेपाल गया था। नेपाल से लौटने के बाद वह महाराजगंज गया जहां से उसने दो बांका खरीदें। अब टीम यह पता लगा रही है कि महाराजगंज जाकर उसने क्या किया था। इस दौरान में किस-किस के कांटेक्ट में आया था।

आरोपी को कोर्ट ने 4 अप्रैल की रात 8:00 से 11 अप्रैल की दोपहर 2:00 बजे तक पुलिस की अभिरक्षा में रिमांड पर देने का आदेश दे दिया है। पूरे मामले में अभियोजन अधिकारी का कहना है कि अभियुक्त कुछ दिनों तक मुंबई, जामनगर, कोयंबटूर ,नेपाल, लुंबनी गया था। उसके पास से बहुत से बैंकों के एटीएम कार्ड, आधार कार्ड, दिल्ली से मुंबई उड़ान का टिकट और उर्दू से मिलती-जुलती इस्लामिक भाषा का साहित्य भी प्राप्त हुआ है।

अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ने पुलिस अभिरक्षा रिमांड स्वीकृत करते हुए पुलिस को यह भी निर्देश दिया है कि पूछताछ के दौरान आरोपी को किसी प्रकार से प्रताड़ित नहीं किया जाएगा । उच्च न्यायालय के साथ ही मानव अधिकार आयोग के प्रतिपादित का निर्देशों का पालन किया जाएगा। इस दौरान आरोपी के अधिवक्ता भी उचित दूरी बनाकर रह सकते हैं।

इसे भी पढ़ें-गोरखनाथ मंदिर में PAC जवानों पर हमला करने वाले शख्स को किया गया अरेस्ट, पढ़ा-लिखा है आरोपी