Categories
उत्तर प्रदेश राजनीति लखनऊ

छह MLA के साथ स्वामी प्रसाद मौर्य ने की साइकिल की सवारी, अखिलेश ने दिलायी सदस्यता

  • 85 तो हमारा है, 15 में भी बंटवारा है : स्वामी प्रसाद मौर्य

लखनऊ। स्वामी प्रसाद मौर्य ने अपने समर्थक विधायकों के साथ शुक्रवार को समाजवादी पार्टी की साइकिल पर सवाल हो गया। पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने उन्हें सदस्यता दिलायी। स्वामी प्रसाद मौर्य के साथ धर्म सिंह सैनी और 6 विधायकों ने भी सपा का पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव करीब आने के साथ ही राजनीतिक गतिविधियां भी तेज हो रही हैै। बताया जा रहा है कि मकर संक्रांति के अवसर पर भारतीय जनता पार्टी यूपी चुनाव के लिए अपने उम्मीदवारों की पहली सूची भी जारी कर सकती है।

मकर संक्रांति बीजेपी के अंत का इतिहास रचेगी : मौर्य

समाजवादी पार्टी में शामिल होने के बाद स्वामी प्रसाद मौर्य ने बीजेपी पर तीखा हमला बोला। उन्होंने कहा कि मकर संक्रांति बीजेपी के अंत का इतिहास रचने जा रहा है। जो बीजेपी के लोग कुंभकर्णी नींद सो रहे थे उनको अब नींद ही नहीं आ रही है। पहले वे लोग हमारी बात नहीं सुनते थे। अब सत्ता का नशा उतर जाएगा। स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा कि बीजेपी के कुछ लोग कहते हैं कि पांच साल तक इस्तीफा क्यों नहीं दिया। कुछ कहते हैं बेटे के चक्कर में बीजेपी छोड़ी है। उन्होंने कहा कि मैं बताना चाहता हूं कि बीजेपी ने गरीबों, पिछड़ों, दलितों और अल्पसंख्यकों की आंख में धूल झोंककर सत्ता हथियाई थी। सरकार बनाएं दलित और पिछड़े, मलाई खाएं अगड़े, पांच फीसदी लोग। स्वामी बोले कि 85 तो हमारा है, 15 में भी बंटवारा है।

BJP के शोषण से मुक्त होगा यूपी

स्वामी प्रसाद मौर्य का एक बयान भी सामने आया है। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने देश और प्रदेश के लोगों को गुमराह किया है। जनता को शोषण का शिकार बनाया है। अब बीजेपी की सरकार का खात्मा करके यूपी को बीजेपी के शोषण से मुक्त कराना है। धर्म सिंह सैनी ने कहा कि पिछले 5 सालों में पिछड़ों, दलितों का राजनीतिक, आर्थिक, रोजगार और आरक्षण के क्षेत्र में पूरी तरह से शोषण हुआ है। हम पिछड़े, दलित वर्ग के लोग मकर संक्रांति के समय समाजवादी पार्टी में शामिल होने जा रहे हैं।

1. पूर्व मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य,
2. पूर्व मंत्री धर्म सिंह सैनी, भगवती सागर (बिल्हौर कानपुर से विधायक)
3. विनय शाक्य (एमएलसी बिधुना अरायये और पूर्व मंत्री)
4. रोशन लाल वर्मा (विधायक शाहजहांपुर)
5. डॉ मुकेश वर्मा (विधायक सिकोहाबाद, फिरोजाबाद)
6. बृजेश कुमार प्रजापति (विधायक बांदा)
7. चैधरी अमर सिंह (विधायक सिद्धार्थनगर)
8. अली यूसुफ (पूर्व विधायक, रामपुर)
9. राम भारती (पूर्व मंत्री, सीतापुर)
10. नीरज मौर्य (पूर्व विधायक शाहजहांपुर)
11. हरपाल सिंह
12. बलराम सैनी (पूर्व विधायक, मुरादाबाद)
13. राजेंद्र प्रसाद सिंह पटेल (पूर्व विधायक, मिर्जापुर)
14. विद्रोही धनपत मौर्य (पूर्व राज्य मंत्री)
15. ध्रुवराम चैधरी (पूर्व मंत्री)
16. पदम सिंह
17. अयोध्या प्रसाद पाल (पूर्व मंत्री)
18. बंसी सिंह पहलिया
19. अमर नाथ सिंह मौर्य
20. रामावतार सैनी
21. आरके मौर्य
22.दामोदर मौर्य
23. बलराम मौर्य
24. देवेश शाक्य
25. महेंद्र मौर्य
26. रजनीकांत मौर्य
27. राम लखन चैरसिया
28. देवेश श्रीवास्तव
29. चंद्र पाल सिंह सैनी

यह भी पढ़ेंः-स्वामी प्रसाद मौर्य ने RSS को नाग तो BJP को बताया सांप, ऐसे करेंगे खात्मा