Saturday, January 23, 2021
Home उत्तर प्रदेश बस्तीः फर्जी टीचर का STF ने किया भंडाफोड़, 12 साल से दीपक...

बस्तीः फर्जी टीचर का STF ने किया भंडाफोड़, 12 साल से दीपक सिंह बनकर कर रहा था नौकरी

उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले के रुधौली के प्राथमिक विद्यालय कथकपुरवा में फर्जी टीचर का मामला सामने आया है. लखनऊ एसटीएफ की टीम ने फर्जी टीचर को हिरासत में ले लिया है. बताया जा रहा है कि, टीचर 12 साल से फर्जी दस्तावेज के आधार पर प्राथमिक विद्यालय में प्रधानाध्यापक की नौकरी कर रहा था. एसटीएफ को इस बारे में काफी वक्त से शिकायत मिल रही थी कि, बस्ती के रूधौली के प्राथमिक विध्यालय कथकपुरवा में एक व्यक्ति फर्जी दस्तावेज के सहारे बतौर प्रधानाध्यापक तैनात है. मिली जानकारी के मुताबिक, ये व्यक्ति विद्यालय में दीपक सिंह के नाम से नौकरी कर रहा था जबकि इसका असली नाम शेषनाथ सिंह है.

गिरफ्तार हुए शेषनाथ सिंह ने एसटीएफ की टीम को बताया कि, वह संतकबीरनगर के गजपुर गांव का निवासी है और गोरखपुर के रहने वाले दीपक सिंह के दस्तावेज लगाकर वो 12 साल से नौकरी कर रहा था. मामला पर जब एसटीएफ ने पूरी पड़ताल की तो पता चला, साल 2005-06 में शेषनाथ सिंह की मुलाकात गोरखपुर के यदुनंदर यादव से हुई थी. जिसने उसे 50 हजार रुपये में शिक्षक की नौकरी दिलाने का वादा किया था. इसके बाद यदुनंदर ने साल 2007 में इस्माइल बाबू ने शेषनाथ सिंह से दीपक कुमार सिंह के दस्तावेज लगाकर फॉर्म भरवाया और उसी के आधार पर 2009 में बस्ती के विक्रमजोत ब्लाक के सिंदुरिया प्रथामिक विद्यालय पर तैनाती मिली. नौकरी लगने के बाद साल 2013 में पदोन्नति कर शेषनाथ कथकपुरवा प्राथमिक विद्यालय पर बतौर प्रधानाध्याक की नौकरी करने लगा.

फर्जी टीचर का भंडाफोड़ होने के बाद एसटीएफ ने उसे गिरफ्तार कर लिया है साथ ही एसटीएफ की तहरीर पर बस्ती सदर कोतवाली में चार जालसाजों के खिलाफ धारा 409, 419, 420, 467, 468, 471, 389 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है. फर्जी शिक्षक बनकर नौकरी करने वाले शेषनाथ को सलाखों के पीछे भेज दिया गया है. अब पुलिस को उसके साथ मिले हुए तीन जालसाजों की तलाश है. कहा जा रहा है कि, जल्द ही पुलिस इन तीन जालसाजों को धर दबोचेगी. मामले पर बीएसए ने भी निलंबन की विभागीय कार्रवाई शुरू कर दी है.

रिपोर्ट- रजनीश कुमार पाण्डेय

Most Popular