shrikant sharma

लखनऊ। देश में कोयले की बड़ी किल्लत है जिसके चलते बिजली उत्पादन पर संकट बरकरार है। उत्तर प्रदेश भी कोयले की कमी और बिजली संकट से जूझ रहा है। प्रदेश को बिजली की उपलब्धता और मांग में संतुलन बनाए रखने के लिए यूपी को एनर्जी एक्सचेंज के तहत बेहद महंगी बिजली खरीदनी पड़ रही है। बिजली खरीद की कीमत 17 रुपए प्रति यूनिट तक पहुंच गई है। 17 रूपये प्रति यूनिट प्रदेश के लिए बिजली खरीदना पड़ रहा है। ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने बिजली की खरीद और आपूर्ति की जानकारी एक ट्वीट में दी है। उन्होंने लोगों से अपील की है कि बिजली का अनावश्यक इस्तेमाल न करें, ताकि गांवों और गरीबों तक भी बिजली पहुंच सके। वर्तमान में आसानी से बिजली उपभोक्ताओं तक पहुंच सके इसकी कोशिश हो रही है।

ऊर्जा मंत्री लगातार विद्युत आपूर्ति की समीक्षा कर रहे हैं। उन्होंने यूपीपीसीएल के चेयरमैन सहित सभी डिस्कॉम के एमडी को निर्देश दिया है कि प्रदेश में ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में शाम 6 बजे से सुबह 7 बजे तक बिजली की निर्बाध आपूर्ति हो। उन्होंने अधिकारियों को बिजली उपलब्धता के अनुसार आपूर्ति बनाये रखने का निर्देश दिया है। ऊर्जा मंत्री ने प्रदेश की जनता से अपील भी की है। उन्होंने ट्वीट किया है, “प्रिय उपभोक्ता, रात्रिकालीन निर्बाध विद्युत आपूर्ति के लिए सरकार 17 रुपये प्रति यूनिट की महंगी बिजली खरीद रही है। अनावश्यक विद्युत उपकरणों का प्रयोग न कर, बिजली बचाएं ताकि गांव व गरीब को भी पर्याप्त बिजली मिले।

इस दौरान ऊर्जामंत्री श्रीकांत शर्मा ने बिजली की कमी को लेकर विपक्ष पर भी बेवजह की सियासत करने का आरोप भी लगाया है। उन्होंने ट्वीट किया है कि उत्तर प्रदेश की सरकार प्रदेश में पूर्व की सरकारों की तुलना में 10,000 मेगावाट ज्यादा बिजली आपूर्ति कर रही है। पहले चुनिंदा जिलों को ही बिजली मिलती थी, अब पूरे प्रदेश को बिना भेदभाव एकसमान बिजली आपूर्ति की जा रही है इसलिए विपक्ष बेवजह राजनीति न करे।
ज्ञात हो कि बिजली खरीद की दर सामान्य दिनों में छह रुपये से भी कम रहती है लेकिन अब ये 17 रुपए तक पहुंच रही है। ऊर्जा मंत्री ने बुधवार को गोमती नगर स्थित स्टेट लोड डिस्पैच सेंटर पहुंचकर विद्युत आपूर्ति की समीक्षा की। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि सरकार कटौती मुक्त आपूर्ति को लेकर बेहद गंभीर है। बिजली की निर्बाध आपूर्ति सुनिश्चित करायें।

यह भी पढ़ेंः-कोयले की कमी और बिजली संकट पर राज्यों ने लगाई केन्द्र से गुहार, PM को पत्र में कही ये बात