Categories
उत्तर प्रदेश

श्रीराम मंदिर निर्माण देख अभिभूत हुए श्रीश्री रविशंकर, अब अयोध्या में आर्ट ऑफ लिविंग केन्द्र बनाने की तैयारी

अयोध्या। काशी में काशी विश्वनाथ काॅरिडोर के लोकार्पण के बाद संत अब अयोध्या में श्रीरामलला का दर्शन करने पहुंचने लगे हैं। इसी क्रम में अयोध्या में मंगलवार को आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्रीश्री रविशंकर पहुंचे। उन्होंने हनुमानगढ़ी और राम जन्मभूमि दर्शन पूजन किया। श्रीश्री रविशंकर ने रामलला के निर्माणाधीन स्थल को देखा। दर्शन करने के बाद श्रीराम लला की आरती में भी श्री श्री रविशंकर शामिल हुए। इस दौरान उन्होंने कहा कि करोड़ों लोगों की आस्था का केंद्र भगवान श्रीराम लला का भव्य मंदिर बन रहा है। जिस तरह काशी का भव्य रूप सामने आया है वैसे ही अयोध्या का रूप भी भव्य रूप में सामने आएगा। अयोध्या विवाद पर मुस्लिम और हिंदू के बीच में सामंजस्य बैठाने का प्रयास कर चुके श्री श्री रविशंकर एक बार फिर सुर्खियों में हैं। इस बार श्रीराम जन्म भूमि के पीछे राज घाट क्षेत्र में एक जमीन को देखने आए हैं। यहां पर वह आर्ट ऑफ लिविंग संस्था तथा विकास प्राधिकरण के साथ जोड़ करके एक योजना शुरू करना चाहते हैं। इसी के संदर्भ में जमीन देखने अयोध्या पहुंचे थे।

श्री श्री रविशंकर प्रधानमंत्री के कार्यक्रम में काशी पहुंचे थे और उसके बाद काशी से अयोध्या पहुंचे हैं। रविशंकर राम जन्मभूमि आंदोलन की हृदय स्थली रही दिगंबर अखाड़ा भी गये। दिगम्बर अखाड़ा पर संतों के साथ मुलाकात की। वहीं पर भोजन करने के बाद वह दोबारा अयोध्या से बेंगलुरु के लिए रवाना हुये। उन्होंने आर्ट ऑफ लिविंग संस्था के भवन निर्माण के लिए लिए जमीन राज घाट क्षेत्र में देखी है। राम मंदिर निर्माण की प्रगति देख करके श्री श्री रविशंकर अभिभूत दिखे।

उन्होंने कहा कि राम मंदिर निर्माण का काम बहुत ही अच्छे तरीके से चल रहा है। बहुत ही शीघ्र श्रीरामभक्तों की जो मनोकामना थी वह राम मंदिर को देखने के लिए साकार होगी। सर्वश्रेष्ठ इंजीनियरों के देखरेख में रामलला का भव्य मंदिर बन रहा है, जिसको देख कर बहुत तसल्ली हो रही है। श्री श्री रविशंकर ने कहा कि जैसे वाराणसी का एक नया रूप सामने आ रहा है वैसे ही अयोध्या का एक भव्य स्वरूप आगामी दिनों में देखने को मिलेगा।

यह भी पढ़ेंः-दिव्य काशी-भव्य काशी के बाद अयोध्या में रामलला का दर्शन करेंगे इन राज्यों के CM और उपमुख्यमंत्री