Categories
उत्तर प्रदेश कानपुर लखनऊ

सपा MLC का दावा कुछ भी नहीं मिला, याकुब के ठिकाने पर कैश गिनने मशीनें पहुंचीं

लखनऊ/ कानपुर /कन्नौज। इत्र कारोबारी पीयूष जैन के ठिकानों पर छापेमारी के बाद आयकर विभाग आठ दिनों बाद एक बार फिर शुक्रवार को एक्शन मोड में आ गयी है। 50 से अधिक ठिकानों पर एक साथ छापेमारी की गयी। अब आयकर विभाग का शिकंजा इत्र कारोबारी मोहम्मद याकूब पर कसता जा रहा है। शुक्रवार को आयकर विभाग टीम ने मोहम्मद याकूब के यहां छापेमारी की थीं बताया जा रहा है कि छापेमारी के दौरान भारी मात्रा में कैश बरामद हुआ है। नोटों की गिनती के लिए मशीनें मंगाई गई हैं। ज्ञात हो कि इत्र कारोबारी मोहम्मद याकूब के ठिकानों पर शुक्रवार सुबह से ही छापेमारी जारी है। याकूब के साथ-साथ लखनऊ में रहने वाले उनके भाई मोहसीन के ठिकानों पर भी इनकम टैक्स विभाग के 4-5 अधिकारी पहुंचे थे। मोहसीन हजरतगंज में स्थित अपनी कोठी में रहते हैं। कन्नौज में इत्र के सबसे बड़े और पुराने कारोबारियों में गिने जाने वाले मलिक मियां के यहां भी छापेमारी हुई थी। अभी तक बरामदगी के बारे में कोई जानकारी नहीं आ रही है।

Akhilesh pushpraj

इनकम टैक्स की टीम ने शुक्रवार को कन्नौज में सपा एमएलसी पुष्पराज जैन उर्फ पंपी जैन के ठिकानों पर भी छापेमारी की थी। सपा एमएलसी की दावा है कि 27 घंटे की जांच में आयकर विभाग की टीम को कुछ नहीं मिला है। आयकर विभाग की टीम अभी भी खाली हाथ है। पुष्पराज जैन ने पिछले दिनों अखिलेश यादव के हाथों समाजवादी इत्र लॉन्च कराया था। पुष्पराज कन्नौज में उसी इलाके में रहते हैं जहां पीयूष जैन का पुश्तैनी घर है। इसके साथ-साथ दोनों सुगंधित कंपाउंड बनाने के ही कारोबार से जुड़े हैं।

विदेश तक फैला है पंपी का कारोबार

कन्नौज के साथ-साथ पंपी जैन के मुंबई स्थित ठिकाने पर भी छापेमारी हुई थी। पुष्पराज जैन की कम्पनी प्रगति एरोमा का रिजनल दफ्तर मुंबई में है। प्रगति ऐरोमा के कार्यलय में भी छापेमारी हुई। बताया जा रहा है कि मुम्बई दफ्तर से दुबई, अबू धाबी समेत कई देशों में इत्र का इंपोर्ट किया जाता है। इसके अलावा मुंबई के मलाड में भी इनकम टैक्स विभाग ने छापा मारा था। ये जगह भी पुष्पराज जैन से जुड़ी है। यहां स्थित अशोक इनक्लेव अमार्टमेंट में टीम आई थी जो कि कुछ देर बाद लौट भी गई।

ऐसे बढ़ गयी सपा-भाजपा में तल्खी

इत्र व्यापारी के यहां छापेमारी के बाद सियासी तल्खी तेज हो गयी थी। भारतीय जनता पार्टी ने पीयूष जैन को सपा का बताया था तो अखिलेश यादव ने जवाब देते हुए उसे भाजपा का पोषित बता दिया। इस बीच आठ दिनों बाद समाजवादी इत्र लाॅन्च करने वाले पुष्पराज जैन के ठिकानों पर शुक्रवार को आयकर विभाग की छापेमारी हुई। पुष्पराज जैन के ठिकानों से आयकर विभाग कुछ भी आपत्तिजनक बरामद नहीं कर सका है।

यह भी पढ़ेंः-ऑपरेशन खुशबू : दो महीने से आयकर विभाग के निशाने पर थे पुष्पराज जैन