आज से यूपी में नहीं खोले जाएंगे स्कूल-कॉलेज, सरकार ने कहा- अभी हालत ठीक नहीं

93
up scl

देशभर में कोरोना वायरस ने विकराल रूप ले लिया है। इस वायरस की चपेट में लाखों लोग आ गए है। जिसके चलते लगभग छह महीने से देशभर के स्कूल और कॉलेज बंद है। जिसे खोलने की इजाजत केंद्र सराकर द्वारा दी जा चुकी है। केंद्र सरकार ने 21 सितंबर यानी आज से देश के स्कूल और कॉलेज को खोलने का ऐलान किया है। सरकार ने स्कूल में 9वी से लेकर 12वी तक की कक्षाओं को खोलने का ऐलान किया है लेकिन यूपी सरकार ने प्रदेश में स्कूल और कॉलेज खोलने के लिए साफ मना कर दिया है यानी उत्तर प्रदेश में सोमवार से स्कूल और कॉलेज नहीं खोले जाएंगे।

राज्य सरकार के मुताबिक कोरोना वायरस की स्थिति राज्य में ठीक नहीं है। ऐसे में स्कूल और कॉलोज को खोलने की अनुमति नहीं दी जा सकती। माध्यमिक शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने बताया कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते हुए मामलों को देखते हुए फिलहाल स्कूल खोलना संभव नहीं है इसलिए फिलहाल इसे बंद रखने का ही फैसला किया गया है। बता दें कि केंद्र सरकार ने स्कूल और कॉलेज खोलने के लिए सख्त गाइडलाइंस का भी ऐलान किया था। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने स्कूलों में बच्चों की हेल्थ को लेकर गाइडलाइंस की घोषणा की है।

ये भी पढ़ें:-सरकारी नौकरियों में योगी सरकार ने बढ़ाया कोटा, जानें किसे मिलेगा आरक्षण का लाभ

स्कूल के लिए गाइडलाइंस
कोरोना की वजह से कक्षाएं बंद कमरे में नहीं लगेगी बल्कि बच्चों को खुले में पढ़ाया जाएगा।

शिक्षकों, स्टूडेंट्स और स्कूल के अन्य स्टाफ के बीच कम से कम 6 फुट की दूरी रखनी होगी। कक्षा में सिटिंग अरेंजमेंट को पूरी तरह बदल दिया जाएगा। ताकि कोरोना के खतरे से बचा जा सके।

जमीन पर छह-छह फुट की दूरी पर मार्किंग होगी।

हर कक्षा की पढ़ाई के लिए अलग-अलग समय निर्धारित किया जाएगा। जिससे स्कूल में एक समय में कम से कम स्टूडेंट्स होंगे।

स्टूडेंट्स कॉपी, किताब, पेंसिल, पेन, वॉटर बोतल जैसी चीजें आपस में शेयर नहीं कर सकेंगे।

स्टूडेंट्स, टीचर्स और अन्य स्टाफ को लगातार हाथ धोने होंगे। साथ ही फेस मास्क पहनना होगा।

स्कूलों में मॉर्निंग प्रेयर की अनुमति नहीं होगी।

जो छात्र स्कूल नहीं आएंगे, उनके लिए ऑनलाइन क्लासेज जारी रहेंगी।

जिन स्कूल की कैंटीन है वहां पर कैंटीन को बंद रखा जाएगा।

प्रैक्टिकल लैब के अंदर छात्रों के बीच दूरी बनाए रखने के लिए कम संख्या में बैच बनाए जाएंगे। लैब के अंदर हर छात्र के लिए 4 वर्गमीटर का गोला खींचा जाएगा।