सरकार की वादा खिलाफी के खिलाफ राकेश टिकैत ने भरी हुंकार, विश्वासघात दिवस का आह्वान

0
259
rakesh mpdi

नोएडा। केन्द्र द्वारा किसानों से किए गए वादों को पूरा नहीं करने पर राकेश टिकैत तल्ख हो गये हैं। भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा कि सोमवार को कृषि मुद्दों पर देश भर में विश्वासघात दिवस मनाया जाएगा। इस दौरान उन्होंने कहा कि अभी केन्द्र ने जो वादे किये हैं, उसे पूरा नहीं किया है। भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता ने रविवार को दावा किया कि 9 दिसंबर को सरकार द्वारा किए गए वादों के एक पत्र के आधार पर दिल्ली की सीमाओं पर एक साल से अधिक समय से चल रहे विरोध-प्रदर्शन को वापस ले लिया गया था, लेकिन वादे अधूरे रह गये।

सरकार की जिम्मेदारी है कि किसानों से किये गये वादे पूरे करे। राकेश टिकैत ने एक ट्वीट में कहा कि सरकार द्वारा किसानों से वादा खिलाफी के खिलाफ 31 जनवरी को देशव्यापी ‘विश्वासघात दिवस’ मनाया जाएगा। सरकार के नौ दिसंबर के जिस पत्र के आधार पर आंदोलन स्थगित किया गया था, सरकार ने उनमें से कोई वादा पूरा नहीं किया है।

 मोदी की घोषणा के बाद खत्म हुआ था किसान आंदोलन

भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन विवादास्पद कृषि कानूनों पर किसान तल्ख हो गये थे। तीन कृषि कानूनों को वापस लेने के लिए नवंबर 2020 में किसानों ने संयुक्त किसान मोर्चा के बैनर तले दिल्ली की सीमाओं पर विरोध प्रदर्शन शुरू किया था। किसानों ने फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य के लिए कानूनी गारंटी समेत अन्य मांगों पर एक साल से अधिक समय तक सिंघु, टीकरी और गाजीपुर बॉर्डर पर प्रदर्शन किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नवंबर 2021 में विवादास्पद कृषि कानूनों को वापस लेने की घोषणा की। पीएम मोदी की घोषणा के बाद प्रदर्शन कर रहे किसानों ने दिसंबर में दिल्ली की सीमाओं को खाली कर दिया।

ये भी पढ़ेंः-पेगासस डील के खुलासे पर घिरी मोदी सरकार, कांग्रेस ने लगाया देशद्रोह का आरोप