Categories
उत्तर प्रदेश राजनीति

राहुल और प्रियंका ने अमेठी में निकाली प्रतिज्ञा पदयात्रा, महंगाई-बेरोजगारी को लेकर BJP को कही ये बात

अमेठी। विधानसभा चुनाव की तैयारियों को लेकर उत्तर प्रदेश शनिवार को रैलियों के नाम रहा। कांग्रेस सांसद राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी जहां अमेठी में हुंकार भरे वहीं पीएम मोदी शाहजहांपुर में रैली कर गंगा एक्सप्रेस वे का शिलान्यास किया। 2019 लोकसभा चुनाव में हार के करीब 2.5 साल बाद पहली बार अमेठी पहुंचे राहुल गांधी ने इसे अपना घर बताया। उन्होंने इस दौरान कहा कि यहां से राजनीति की शुरुआत की और यहीं सियायत का तरीका सीखा। बहन प्रियंका गांधी के साथ पदयात्रा से पहले जगदीशपुर में राहुल गांधी ने यह भी बताया कि कैसे उनका अमेठी आने का प्रोग्राम बना। उन्होंने कहा कि कुछ दिन पहले प्रियंका मेरे पास आई और उसने मुझे कहा कि लखनऊ चलो। मैंने बहन से कहा कि लखनऊ जाने से पहले मैं अपने घर जाना चाहता हूं। लखनऊ आने से पहले अपने परिवार से बात करना चाहता हूं। यहीं से अमेठी आने का तय हुआ।

राहुल गांधी ने आगे कहा कि 2004 में मैं राजनीति में आया और पहला चुनाव मैंने यहां से लड़ा था। आपने मुझे बहुत कुछ सिखाया। आपने मुझे राजनीतिक रास्ता दिखाया और मेरे साथ आप इस रास्ते पर हमेशा चले। इसलिए मैं आपको धन्यवाद देना चाहता हूं। राहुल ने भाजपा पर तंज कसते हुए कहा कि आज की हालत आपको दिख रही है। बड़े सवाल हैं। सवालों का जवाब न मुख्यमंत्री देते हैं ना प्रधानमंत्री। देश में रोजगार क्यों नहीं पैदा हो रहा है। रोजगार क्यों खत्म हो गया है। हमारे देश के जो युवा हैं जो भविष्य हैं उनको हिंदुस्तान में रोजगार क्यों नहीं मिल सकता है। भाइयों और बहनों इस देश को छोटे बिजनेस वाले मिडिल क्लास दुकानदार रोजगार देते हैं। उस पर नरेंद्र मोदी ने पहला नोटबंदी व कोरोना सहित कई अन्य हमले कर अवसर को समाप्त कर दिया।

राहुल गांधी और प्रियंक गांधी वाड्रा अपने पुराने किले अमेठी में पहुंच रहे हैं। अमेठी में कांग्रेस पार्टी जन जागरण अभियान चला रही है। इस मौके पर राहुल गांधी और प्रियंका गांधी अमेठी में पद यात्रा पर हैं। ज्ञात हो कि अमेठी कांग्रेस का गढ़ रहा है। राहुल गांधी यहां से लोकसभा का चुनाव जीतते रहे हैं। 2019 के लोकसभा चुनाव में राहुल गांधी अमेठी से चुनाव हार गए थे। लेकिन 2004, 2009 और 2014 के लोकसभा चुनाव में अमेठी से राहुल लगातार चुनाव जीते थे। 1999 में सोनिया गांधी यहां से चुनाव जीती थीं। 2019 से यहां कांग्रेस का प्रभाव कम हो रहा है। यूपी चुनाव से पहले कांग्रेस नेतृत्व अपने इस गढ़ में फिर पार्टी की पकड़ मजबूत करना चाहता है। राहुल और प्रियंका की यात्रा को इसी नजरिये से देखा जा रहा है। राहुल प्रियंका की ये पदयात्रा पूरे 6.5 किलोमीटर की है।

भाजपा भगाओ महंगाई हटाओ प्रतिज्ञा पदयात्रा

भाजपा भगाओ महंगाई हटाओ प्रतिज्ञा पदयात्रा के लिए कांग्रेस नेता राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी अमेठी में हुंकार भर रहे हैं। कांग्रेस कार्यकर्ताओं दोनों नेताओं के समर्थन में नारेबाजी कर रहे हैं। राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने हाथ हिलाकर कार्यकर्ताओं का अभिवादन किया। इस दौरान राहुल गांधी ने कहा कि बेरोजगारी और महंगाई देश के दो बड़े सवाल हैं। इसका जवाब न पीएम मोदी देते हैं न यूपी के सीएम योगी। राहुल गांधी ने मौके पर मौजूद लोगों से पूछा कि नोटबंदी या जीएसटी का मिला क्या। उन्होंने कहा कि नोटबंदी, जीएसटी और कृषि कानूनों का एक ही लक्ष्य है। हम दो हमारे दो।

सरकार ने कहा, कोई किसान शहीद नहीं हुआ

राहुल गांधी ने कहा संसद में हमने किसानों के शहीद होने पर पूछा तो सरकार ने कहा कोई किसान शहीद नहीं हुआ। जबकि पंजाब की सरकार ने 400 किसानों को मुआवजा दिया। मोदी सरकार ने किसानों की मदद नहीं की।

चीन ने दिल्ली जितनी जमीन अपने कब्जे में ली

लद्दाख में चीन की सेना ने दिल्ली जितनी जमीन भारत से छीन ली। पीएम ने कुछ नहीं किया न ही कुछ कहा। इस पर जब उनसे पूछा तो उन्होंने कहा कि किसी ने जमीन नहीं ली लेकिन रक्षा मंत्रालय कहता है कि चीन ने जमीन ली है।

जो हिंसा फैलाता है वो हिन्दुत्ववादी है

राहुल गांधी ने अमेठी में कहा कि गांधी जी ने कहा था कि हिंदू का रास्ता सत्याग्रह है जबकि हिन्दुत्ववादी का रास्ता सत्ताग्रह हैं। उन्होंने कहा कि जो अन्याय के खिलाफ लड़ता है वो हिंदू है और जो हिंसा फैलाता है वो हो हिन्दुत्ववादी है। आज एक तरफ हिन्दू हैं, जो सचाई की बात करते हैं। दूसरी तरफ हिन्दुत्ववादी हैं जो नफरत फैलाते हैं और सत्ता को छीनने के लिए कुछ भी कर सकते हैं।

यह भी पढ़ेंः-अजय मिश्रा टेनी पर विपक्ष का जोरदार हंगामा, राहुल गांधी ने कहा क्रिमिनल हैं मंत्री, तुरन्त हटायें