Categories
उत्तर प्रदेश राजनीति

मुरादाबाद में बरसीं प्रियंका, महंगाई चरम पर है पीछे जा रहा है उत्तर प्रदेश

  • एक पार्टी धर्म के नाम पर तो दूसरी जाति के नाम पर मांगती वोट भूपेश बघेल

मुरादाबाद। उत्तर प्रदेश के लिए गुरूवार का दिन सियासी रैलियों के नाम रहा। अमित शाह बीजेपी टीम के साथ सहारनपुर में, अखिलेश यादव ओमप्रकाश राजभर के साथ ललितपुर में और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी मुरादाबाद मंे हुंकार भरीं। कांग्रेस की प्रतिज्ञा रैली में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मुरादाबाद के पीतल दस्तकारों के समस्याओं को उठाया। उन्होंने महंगाई का मुद्दा उठाते हुए कहा कि उपचुनाव में हार हुई तो पेट्रोल और डीजल के दाम कम कर दिये गये। अगर उत्तर प्रदेश की जनता ठान ले तो सरकार का नशा उतर जाएगा। आप सभी एकजुट हो जाएं तो महंगाई काबू में आ जाएगी। उन्होंने सियासी वोट मांगने वालों पर तीखा व्यंग्य किया। उन्होंने कहा कि एक पार्टी धर्म के नाम पर तो दूसरी जाति के नाम पर वोट मांगती है। उन्होंने प्रियंका गांधी की तारीफ करते हुए कहा कि प्रियंका आपसे मुद्दों के नाम पर वोट मांग रहीं हैं। उन्होंने मुरादबाद वासियों से कहा कि प्रियंका आपकी लड़ाई लड़ रहीं हैं। पिछले दिनों प्रधानमंत्री उत्तर प्रदेश में आए तो योगी के कंधे पर हाथ रखकर चलते हुए उनके फोटो खूब दिखाए गये। जबकि हमारे धर्म में किसी साधु, संन्यासी अथवा योगी के कंधे पर हाथ नहीं रखा जाता। प्रधानमंत्री बताएं कि मुख्यमंत्री को योगी मानते हैं या नहीं।

राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका वाड्रा ने बुद्धि विहार में आयोजति जनसभा में कहा कि आप सभी का मेरी ससुराल में स्वागत है। बहुत दिन बाद ससुराल में आने के लिए माफी चाहती हूं। बूंदाबांदी के बीच प्रियंका वाड्रा ने कहा कि उत्तर प्रदेश में अंधकार है, इस अंधेर नगरी का चैपट राजा है। उद्योग चैपट, रोजगार चैपट, महंगाई चरम पर है। फिर भी वे कहते हैं कि प्रदेश आगे बढ़ रहा है जबकि सब पीछे जा रहा है। उन्होंने टीईटी पेपर लीक होने सरकार पर तीखा हमला किया। टीईटी के पेपर लीक हो रहे हैं। युवाओं की सालों की मेहनत बेकार चली गई। प्रियंका गांधी ने कहा कि मैंने कई युवाओं से बात की, सभी में निराशा है। लखनऊ की एक महिला से बात हुई। उसने बताया कि घरों में काम करके बेटी को पढ़ाया लेकिन सब बेकार चला गया। पेपर माफिया, खनन माफिया, नदी माफिया, माफिया ही माफिया हैं।

उन्होंने कहा कि अच्छा है कि सांस पर कोई माफिया नहीं है नही ंतो सांस लेना भी मुश्किल हो जाता। आप सभी से नाराजगी है कि आप ऐसे नेताओं को चुनते हैं जो आपके अधिकार हड़पते हैं, झूठे वादे करते हैं। उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन से एक बात समझ में आई है कि आप ठान लें तो सब कुछ बदला जा सकता है। काले कानून वापस लिए गए। आंदोलन में 700 लोग शहीद हुए। उन्होंने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रधानमंत्री ने दो मिनट का मौन तो दूर एक शब्द नहीं बोला। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी एक शब्द नहीं कहा। पीएम नरेंद्र मोदी का हवाई जहाज 8000 करोड़ का खरीदा गया, जबकि आपका गन्ना भुगतान केवल 4000 करोड़ का है। संसद के सुंदरीकरण पर 20 हजार करोड़ खर्च कर रहे हैं। आपका कर्जा माफ करने की बात पर कहते हैं कि पैसा नहीं है। अगर सरकार बनी तो 2500 में किसानों का धान खरीदा जाएगा। उन्होंने कहा कि मुरादाबाद को स्मार्ट सिटी बनाया जाएगा। प्रियंका गांधी ने कहा कि महिलाओं को मजबूत करने की बात कर रहे हैं लेकिन एक सिलेंडर देने से सशक्तीकरण नहीं होगा। मैं आपको सशक्त बनाऊंगी। आपके लिए लडूंगी। इसलिए 40 फीसद सीट महिलाओं के लिए दी जा रही है। आपकी लड़ाई लड़ने कोई नही आएगा, मैं आपके साथ खड़ी हूं।

उन्होंने वादा किया सरकार बनी तो कर्जा माफ होगा। बिजली का बिल हाफ होगा, महिलाओं को स्कूटी दी जाएगी। अगर सरकार आई 10 लाख तक का इलाज मुफ्त कराएगी। वृद्धावस्था पेंशन हजार रुपये मिलेंगे। उन्हांेने जनता से सवाल करते हुए कहा कि आप अपने नेताओं से हिसाब नहीं मांगते। समाजवादी का नया नारा सुना है कि आ रहे हैं अखिलेश, वह एनआरसी, सीएए पर कुछ नही बोले। मुजफ्फरनगर में युवक की हत्या हुई, आदिवासियों का नरसंहार, उन्नाव और हाथरस में क्या अखिलेश आये। लखीमपुर खीरी में किसानों को कुचला गया क्या अखिलेश आये। अब चुनाव आ गए तो अखिलेश क्यों आ रहे हैं। कांग्रेस पांच साल से सड़कों पर लड़ाई लड़ती रही। इलाहाबाद में अनुसूचित परविार की हत्या हुई, तब बसपा, सपा क्यों आगे नहीं आईं। मैं उस परिवार से मिली। उन्होंने अखिलेश यादव पर भी निशाना साधा।

यह भी पढ़ेंः-UP की सियासी धरती पर हुंकार भर रहे अमित शाह, प्रियंका और अखिलेश, पश्चिम पर सभी का निशाना