Categories
उत्तर प्रदेश लखनऊ

प्रियंका गांधी ने अमेठी की दलित पीड़िता से की बात, ढांढ़स बंधाते हुए कही ये बात

लखनऊ। विधानसभा चुनाव के करीब आने के साथ जनप्रतिनिधि, नेता भी जनता के करीब आ गये हैं। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने अमेठी की पीड़िता किशोरी से फोन पर बात की। उन्हांेने पीड़िता को ढांढ़स बधाते हुए कहा कि मैं तुम्हारे साथ हूं और दोषियों को सजा दिलवाने के लिए पुरजोर तरीके से लड़ाई लड़ूंगी। दलित बच्ची के तलवे पर डंडे से पीटने का वीडियो वायरल हुआ था। वीडिया वायरल होने के बाद उन्होंने प्रशासन को चेतावनी दी कि आरोपियों को 24 घंटे में सख्त कार्रवाई करना होगा। कांग्रेस महासचिव ने कहा कि कार्रवाई नहीं होने पर बड़ा आंदोलन होगा। अमेठी में पार्टी ने प्रदेश अध्यक्ष के नेतृत्व में विरोध-प्रदर्शन कर लड़की को सुरक्षा देने व फास्ट ट्रैक कोर्ट में मुकदमा चलाकर आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग की।

priyanka gandhi

इससे पहले दलित पीड़ित किशोरी को न्याय दिलाने के लिए जन आक्रोश मार्च में शामिल होने आए कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय सिंह लल्लू को जब पुलिस ने रोका तो वह धरने पर बैठ गये। धरने पर बैठने के बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। कुछ देर के बाद लल्लू को एक प्रतिनिधिमंडल के साथ पीड़िता से मिलने के लिए अनुमति दी गई। बुधवार को प्रियंका गांधी ने वीडियो ट्वीट करते हुए 24 घंटे में आरोपियों की गिरफ्तारी न होने पर आंदोलन की चेतावनी दी थी।

प्रियंका गांधी के ट्वीट के 12 घंटे के भीतर ही पुलिस ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। गुरुवार को कांग्रेस पार्टी ने जन आक्रोश मार्च निकालने की कोशिश की। जिसमें शामिल होने के लिए प्रदेश अध्यक्ष अजय सिंह लल्लू भी पहुंचे थे। पुलिस ने मार्च निकालने की अनुमति नहीं होने की बात कह कर रोक लिया। इस दौरान पुलिस और कांग्रेस पदाधिकारियों के बीच जमकर नोकझोंक भी हुई।

नाराज प्रदेश अध्यक्ष गांधी चौक के पास ही सड़क पर धरने पर बैठ गये। जिस पर पुलिस ने उन्हें व कांग्रेस जिलाध्यक्ष प्रदीप सिंघल, नरेंद्र मिश्र, देवमणि तिवारी, अरविंद चतुर्वेदी के साथ संगठन के कई अन्य लोगों को गिरफ्तार कर लिया। इन सभी को पुलिस लाइन ले जाया गया। जहां से एक प्रतिनिधिमंडल के साथ पीड़िता और उसके परिवार से मिलने की अनुमति दी गई। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष द्वारा बिना अनुमति के शहर में भीड़ के साथ रैली निकालने का प्रयास किया गया था। जिम्मेदार अधिकारियों द्वारा उन्हें रोका गया तो वह धरने पर बैठ गए। जिस पर उन्हें सड़क से हटाया गया। इस दौरान कांग्रेस के पदाधिकारी बहुत नाराज थे।

यह भी पढ़ेंःअमेठी में दलित लड़की से क्रूरता पर तल्ख हुईं प्रियंका गांधी, 24 घंटे में कार्रवाई करने की दी ये चेतावनी