Wednesday, December 8, 2021

कुलियों की पीड़ा से भावुक हुईं PRIYANKA , ललितपुर में पीड़ित किसानों से मिल कर करेंगी ये बात

Must read

- Advertisement -

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव का सियासी पारा चढ़ता जा रहा है। कांग्रेस ने मोदी-योगी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव व यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी शुक्रवार सुबह 7 बजे ललितपुर में पीड़ित किसानों के परिवारों से मुलाकात के लिए रवाना हो गयीं। ट्रेन से ललितपुर रवाना होने के लिए गुरुवार रात राजधानी लखनऊ के चारबाग रेलवे स्टेशन पहुंचीं प्रियंका ने कुलियों से मुलाकात की। कुलियों ने उन्हें अपनी जीविका से जुड़ी समस्या के बारे में बताया। कोरोना महामारी के दौरान सरकारी उपेक्षा का भी जिक्र किया। कुलियों ने बताया कि उनका भरण-पोषण मुश्किल हो गया है। जिसके बाद प्रियंका ने कुली भाइयों की समस्याओं के समाधान के लिए कांग्रेस द्वारा हर संभव मदद का भरोसा दिया। कुछ देर के लिए प्रियंका गांधी भावुक हो गयीं। प्रियंका गांधी कांग्रेस के कुछ प्रवक्ताओं और नेताओं के साथ ट्रेन में बैठकर ललितपुर के लिए रवाना हो गई।

- Advertisement -

ज्ञात हो कि ललितपुर में खाद के लिए दो दिनों से एक दुकान के आगे लाइन में खड़े किसान की हार्ट अटैक से मृत्यु हो गई थी। ललितपुर समेत पूरे बुंदेलखंड में खाद की बड़ी किल्लत है। खाद नहीं मिलने से फसल बर्बाद होने की स्थिति में पहुंच गयी है। खाद की किल्लत के चलते बीते दिन एक किसान ने आत्महत्या कर ली थी। बताया जा रहा है कि 53 साल के भोगी पाल लंबे समय से खाद के लिए परेशान थे। दर-दर भटकने के बाद भी जब उन्हें फसल के लिए खाद नहीं मिली तो वे जुगपुरा की एक दुकान पर दो दिनों से लाइन लगकर खाद खरीदने का प्रयास कर रहे थे। बीते शुक्रवार को इसी दुकान के आगे खड़े भोगी पाल अचानक जमीन पर गिर पड़े।वहां मौजूद लोग उन्हें तत्काल नजदीकी अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टरों ने कहा कि भोगी पाल की मौत हो चुकी है। भोगी पाल के परिजन इस मौत की कहानी कहते हुए रोने लगते हैं।

ज्ञात हो कि उत्तर प्रदेश में इन दिनों एक तरफ केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं। इसी बीच लखीमपुर के तिकोनियों में किसानों को रौंद दिया गया। किसान आंदोलनों के पक्ष में और लखीमपुर में हुई हिंसा के खिलाफ प्रियंका गांधी लगातार मुखर हैं।

यह भी पढ़ेंः-साथ-साथ दिखे प्रियंका गांधी और अखिलेश यादव, समीकरण की सुगबुगाहट तेज

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article