Wednesday, December 8, 2021

पॉक्सो एक्ट: बच्चों से ओरल सेक्स पर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कही ये बात

Must read

- Advertisement -

प्रयागराज। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने बच्चों के मामले में बड़ा फैसला दिया। बच्चे के साथ हुए यौन उत्पीड़न के मामले में अहम फैसला माना जा रहा है। कोर्ट ने बच्चों के साथ ओरल सेक्स को ‘गंभीर यौन हमला’ नहीं माना है। ओरल सेक्स एक मामले में दोषी करार दिए गए शख्स को निचली अदालत से मिली सजा घटा दी है।
इलाहाबाद हाईकोर्ट ने बच्चों के साथ सेक्स के अपराध को पॉक्सो एक्ट की धारा 4 के तहत दंडनीय माना है लेकिन कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है कि यह कृत्य एग्रेटेड पेनेट्रेटिव सेक्सुअल असॉल्ट या गंभीर यौन हमला नहीं है। ऐसे मामले में पॉक्सो एक्ट की धारा 6 और 10 के तहत सजा नहीं सुनाई जा सकती है। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने इस मामले में दोषी को मिली 10 साल कैद की सजा घटाकर 7 साल कर दी है। कोर्ट ने दोषी पर साथ ही 5 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया।

- Advertisement -

rape with 6 year old child

ज्ञात हो कि सोनू कुशवाहा नाम के शख्स ने झांसी सेशन कोर्ट के फैसले को हाईकोर्ट में चुनौती दी थी, जहां जस्टिस अनिल कुमार ओझा की एकल पीठ ने कुशवाहा की सजा के खिलाफ अपील पर सजा कम करने का फैसला सुनाया है। इससे पहले सेशन कोर्ट ने उसे भारतीय दंड संहिता की धारा 377 (अप्राकृतिक यौनाचार) और धारा 506 (आपराधिक धमकी के लिए सजा) और पॉक्सो एक्ट की धारा 6 के तहत दोषी मानते हुए सजा सुनाया था। अदालत के सामने सवाल यह था कि क्या नाबालिग से ओरल सेक्स और सीमेन गिराना पॉक्सो एक्ट की धारा 5 6 या धारा 9 10 के दायरे में आएगी। कोर्ट के फैसले में कहा गया कि यह दोनों धाराओं में से किसी के दायरे में नहीं आएगा। यह पाक्सो एक्ट की धारा 4 के तहत दंडनीय है।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अपने फैसले में स्पष्ट किया कि एक बच्चे के मुंह में लिंग डालना ‘पेनेट्रेटिव यौन हमले’ की श्रेणी में आता है। यौन अपराधों से बच्चों के संरक्षण अधिनियम की धारा 4 के तहत दंडनीय है, परन्तु अधिनियम की धारा 6 के तहत नहीं। इसी तहत दोषी को सजा मिलेगी। ज्ञात हो कि सोनू कुशवाहा ने अतिरिक्त सत्र न्यायाधीशध्विशेष न्यायाधीश, पॉक्सो अधिनियम, झांसी द्वारा पारित निर्णय के खिलाफ इलाहाबाद हाई कोर्ट में आपराधिक अपील दायर की थी। अपीलकर्ता के खिलाफ मामला यह था कि वह शिकायतकर्ता के घर आया और उसके 10 साल के बेटे को साथ ले गया। उसे 20 रुपये देते हुए उसके साथ ओरल सेक्स किया था।

यह भी पढ़ेंः-इलाहाबाद हाई कोर्ट का बड़ा फैसला, 15 वर्ष अधिक उम्र की पत्नी से शारीरिक सम्बन्ध बनाना रेप नहीं

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article