Categories
उत्तर प्रदेश कानपुर

टैक्स चोरी के आरोप में इत्र कारोबारी गिरफ्तार, आगे की कार्रवाई के लिए अहमदाबाद ले जाने की तैयारी

कानपुर/ कन्नौज। उत्तर प्रदेश में कन्नौज के इत्र कारोबारी पीयूष जैन को टैक्स चोरी के आरोप में कानपुर से गिरफ्तार कर लिया गया है। जीएसटी इंटेलिजेंस ने इस कार्रवाई को अंजाम दिया है। आरोपी पीयूष जैन को आगे की कार्रवाई के लिए कानपुर से अहमदाबाद ले जाने की तैयारी है। अब तक की छापेमारी में कानपुर और कन्नौज से 257 करोड़ से अधिक कैश , सोना और चांदी बरामद की गई है। गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स के अफसरों के अनुसार जैन को सीजीएसटी एक्ट की धारा 69 के तहत गिरफ्तार किया गया है। एजेंसियों की कार्रवाई के दौरान कारोबारी जैन के घर के अंदर तहखाना मिला और एक फ्लैट में 300 चाभियां मिलीं। इस बरामदगी पर डीजीजीआई की ओर से अधिकृत जानकारी आनी बाकी है। बताया जा रहा है कि कानपुर के ज्यादातर पान मसाला मैन्युफैक्चर्स पीयूष जैन से ही पान मसाला कम्पाउंड खरीदती हैं। रविवार को कारोबारी के कन्नौज स्थति पुश्तैनी घर में भी छापेमारी की गई।

kannauj raid

DGGI और आयकर विभाग की कार्रवाई

गुरुवार को जीएसटी इंटेलिजेंस महानिदेशालय यानी DGGI और आयकर विभाग की टीम ने कन्नौज के इत्र कारोबारी पीयूष जैन के कानपुर वाले घर पर छापा मारा था। छापेमारी के दौरान अलमारियों में इतने पैसे मिले थे कि नोट गिनने की 19 मशीने लगाई गईं।

जैन तक कैसे पहुंची एजेंसियां

बताया जा रहा है कि अहमदाबाद की डीजीजीआई टीम ने एक ट्रक को पकड़ा था। इस ट्रक में जा रहे सामानों का बिल फर्जी कंपनियों के नाम पर बनाया गया था। सभी बिल 50 हजार रुपये से कम थे। इसके बाद डीजीजीआई ने कानपुर में ट्रांसपोर्टर के यहां छापेमारी की। यहां पर डीजीजीआई को करीब 200 फर्जी बिल मिले जिससे आशंका और बढ़ गयी। यहीं से डीजीजीआई को पीयूष जैन और फर्जी बिलों का कुछ कनेक्शन पता लगा। डीजीजीआई ने कारोबारी पीयूष जैन के घर पर छापेमारी की। जैन के घर जैसे ही अफसर पहुंचे और अलमारियों में नोटों के बंडल पड़े थे। इसके बाद आयकर विभाग को सूचना दी गई। तभी से इन एजेंसियों की इत्र कारोबारी पर कार्रवाई जारी है।

यह भी पढ़ेंः-इत्र कारोबारी की तिजोरी, फर्श और दीवारें भी उगल रहे नोट, 280 करोड़ के पार हुई बरामदगी