Monday, December 6, 2021

किसानों के विरोध से आये बैकफुट पर, अजय मिश्र टेनी नहीं DM करेंगे गन्ना पेराई सत्र का शुभारंभ

Must read

- Advertisement -

लखीमपुर खीरी। लखीमपुर कांड की तपिश बढ़ती ही जा रही है। मुख्य आरोपी आशीष मिश्र के पिता केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र के खिलाफ तल्खी बढ़ रह है। लखीमपुर खीरी की दो सहकारी चीनी मिलों के गन्ना पेराई सत्र की शुरुआत केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा को करना था। उन्हें आमंत्रित किया गया था। किसानों के विरोध के बाद जिलाधिकारी ही शुभारंभ करेंगे। मिलों ने पहले मंत्री अजय मिश्रा को बुधवार को गन्ना पेराई सत्र शुरू करने के लिए आमंत्रित किया था। गन्ना मिलों ने अब कार्यक्रम में संशोधन करते हुए जिलाधिकारी को आमंत्रित किया है। गत सोमवार को किसान नेता राकेश टिकैत ने चेतावनी दी थी कि अगर मंत्री समारोह में शामिल होते हैं तो किसान इन मिलों से दूर रहेंगे। गन्ना किसान अजय मिश्र टेनी का विरोध करेंगे। चीनी मिलों को गन्ना नहीं दिया जाएगा। मंगलवार को जारी एक बयान में लखीमपुर खीरी स्थित किसान सहकारी चीनी मिल्स लिमिटेड, संपूर्ण नगर ने कहा कि खीमपुर खीरी में किसान सहकारी चीनी मिल्स लिमिटेड, संपूर्ण नगर का गन्ना पेराई सत्र 24 नवंबर (बुधवार) से जिलाधिकारी महेंद्र बहादुर दिन में करेंगे। इसी तरह का बयान सरजू सहकारी चीनी मिल लिमिटेड, बेलरयान खीरी द्वारा भी जारी किया है।

- Advertisement -

किसानों ने किया था कड़ा विरोध

लखनऊ में सोमवार को ‘किसान महापंचायत’ को संबोधित करते हुए भाकियू (भारतीय किसान यूनियन) के नेता राकेश टिकैत ने कहा था कि अगर टेनी (अजय मिश्रा) चीनी मिल का उद्घाटन करने आएंगे तो विरोध होगा। उस चीनी मिल में कोई किसान गन्ना नहीं ले जाएगा। राकेश टिकैत ने कहा था कि इसके बजाय किसान गन्ने को लेकर जिलाधिकारी के कार्यालय में जाएंगे। चाहे उन्हें कितना भी नुकसान हो जाए अजय मिश्र को विरोध करना है। केंद्रीय मंत्रिमंडल से राज्य मंत्री मिश्रा को हटाना संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा सरकार से आंदोलन को समाप्त करने के लिए रखी गई छह मांगों में से एक है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को घोषणा की थी कि सरकार तीन विवादास्पद कृषि कानूनों को वापस लेगी। अभी तक केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गयी है।

लखीमपुर कांड के बाद से हैं निशाने पर

लखीमपुर खीरी में थार जीप से रौंदने के कारण चार किसानों की मौत हो गयी थी। किसानों की मौत के बाद भड़की हिंसा में एक पत्रकार समेत चार और लोगों की मौत हो गयी। किसानों की मौत को लेकर लखीमपुर से सांसद मिश्रा किसानों के निशाने पर हैं। इस बीच गृह राज्य मंत्री के करीबी सूत्रों ने बताया कि केंद्रीय मंत्री की कुछ अन्य व्यस्ततायें हैं, इसलिए वह 24 नवंबर को चीनी मिलों के समारोह में शामिल नहीं हो पाएंगे। रविवार को लखनऊ में डीजीपी, आईजी सम्मेलन के समापन के बाद जारी आधिकारिक तस्वीर में मिश्रा नजर नहीं आए थे। इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी शामिल हुए थे। कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाद्रा ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर राज्य की राजधानी में आयोजित डीजीपी समारोह में मिश्रा के साथ मंच साझा नहीं करने का आग्रह किया था। किसानों की मौत के बाद अजय मिश्र निशाने पर हैं।

यह भी पढ़ेंः-टेनी को दिखाये काले झंडे-बरसाये अंडे, केंद्रीय गृहराज्य मंत्री अजय मिश्रा का ऐसे हुआ विरोध

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article