UP में अब इस महीने खुलने जा रहे हैं सभी स्कूल.. इन नियमों का पालन करते हुए शिक्षकों को करना होगा काम  

0
661

ऐसे वक्त में जब लगातार कोरोना वायरस का खौफ बढ़ता जा रहा है। संक्रमितों की बढ़ती संख्या अब यकीनन सरकार के लिए चिंता का सबब बन चुकी है। मगर राहत भरी खबर यह है कि इस कहर के बीच दुरूस्त हो रहे मरीजों का आंकड़ा भी बढ़ रहा है। वहीं इस संजीदा समय में किसी भी बच्चे के भविष्य पर नकारात्मक असर न पड़े इसके लिए उत्तर प्रदेेश सरकार ने अब बड़ा कदम उठाया है। प्रदेश सरकार ने आगामी माह एक जुलाई से प्रदेश के सभी स्कूलों को महज शिक्षकों के लिए ही खोलने का निर्देश दिया है। यहां गौर फरमाने वाली बात यह है कि इन स्कूलों को महज शिक्षकों के लिए ही खोलने का निर्देश जारी किया है।

ये भी पढ़े :योगी सरकार का क्रांतिकारी ऐलान, यूपी बोर्ड टॉपर्स के नाम पर बनेगी सड़क, और मिलेंगे ये शानदार तोहफे

वहीं इसके साथ शिक्षकों को इन स्कूलों में कैसे काम करना होगा। इसके लिए प्रदेश सरकार ने दिशानिर्देश जारी किए हैं। मिली जानकारी के मुताबिक, शिक्षकों को संक्रमण से बचाने के लिए सभी स्कूलों में उचित साफ-सफाई करनी होगी। सभी चीजों को सेनिटाइज किया जाएगा। रोस्टर के मुताबिक शिक्षकों को स्कूलों में ड्यूटी देनी होगी। ब्लॉक स्तर पर दोपहर की पाली में पांच-पांच प्रधानाध्यापकों को रोस्टर के अनुसार उपस्थित रहना होगा। मिशन प्रेरणा के तहत ई-पाठशाल के तहत बच्चों को क्लास दी जाएगी।

ऑपरेशन कायाकल्प के तहत स्कूलों में रंगरोजन और सौंदर्य के कार्य करने होंगे। समर्थ कार्यक्रमों के तहत सभी दिव्यांग बच्चों के शिक्षा की थैरेपी करनी होगी। इसके साथ ही निशुल्क पुस्तकों और वर्दी का वितरण करना होगा। साथ ही सभी शिक्षकों को ऑनाइन कैसे पढ़ाना है। इसका प्रशिक्षण दिया जाएगा। शारदा कार्यक्रम के तहत ड्रापआउट कर चुके बच्चों को फिर से स्कूल में दाखिला दिलाया जाएगा। वहीं दीक्षा एप के जरिए शिक्षकों को कौशल विकास के लिए तैयार 75 कोर्स का प्रशिक्षण दिलाया जाएगा।

ये भी पढ़े :UP Board Results 2020: यूपी बोर्ड ने जारी किए 10वीं और 12वीं के छात्रों के नतीजे, देखें टॉपर लिस्ट