कमलेश तिवारी हत्याकांड में नया खुलासा,’फिक्र मत करना, शाबाश तुमने कौम का नाम रोशन किया है’

0
3249

कमलेश तिवारी हत्याकांड में नया खुलासा हुआ है. दरअसल, पुलिस ने जब हत्यारोपी अशफाक से पूछताछ की तो हैरान करने वाला जवाब आया. अशफाक ने कहा कि नागपुर निवासी आसिम अली ने कहा था कि तुम चिंता मत करना. मैं तुम्हे बाहर निकाल लूंगा. उसने अशफाक के हौसले की दाद देते हुए दोनों को यूपी से सुरक्षित बाहर निकालने के लिए हर तरह की मदद का भरोसा दिलाया. आसिम ने उससे कहा, किसी तरह से कर्नाटक पहुंचे. वहां दोनों के सरेंडर का पूरा इंतजाम कर दिया जाएगा. आसिम ने यह जानकारियां बुधवार को पुलिस की पूछताछ के दौरान दी. जिसके बाद से ही कमलेश तिवारी हत्याकांड में अलग मोड़ आ गया. अशफाक के मुताबिक आसिम अली ने उसे कमलेश तिवारी को मारने के लिए कहा था.इसे भी पढ़ें:-कमलेश तिवारी हत्याकांड पर चौंकाने वाला बड़ा खुलासा, रशीद नहीं बल्कि ये है मुख्य साजिशकर्ता!

पुलिस ने दोनों आरोपियों से पूछने के बाद आसिम को भी गिरफ्तार कर लिया. आसिम का कहना है कि अशफाक लखनऊ के हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी को मारना चाहता है. हालांकि, वह उसे कब, कहां और किस तरह से मारेगा. इस बारे में कोई जानकारी नहीं थी. आसिम का कहना है कि वह राशिद को पहले से जानता है, लेकिन अशफाक के बारे में उसे कोई जानकारी नहीं थी, जिसके बाद असफाक ने आसिम का एक वीडियो देखकर उससे संपर्क किया था और कुछ दिनों तक उससे बात भी किया, लेकिन एक समय के बाद दोनों  ने बात करना बंद कर दिया. आसिफ ने कहा कि बात करने के दौरान असफाक ने कई बार कमलेश तिवारी का जिक्र भी किया. उसे मौत के घाट उतारने की बात भी कही थी.

माइनॉरिटी डेमोक्रेटिक पार्टी से अशफाक जुड़ा था. इसी पार्टी में आसिम भी शामिल था. इसी कारण दोनों की बातचीत होती थी. अशफाक इस पार्टी का अपने फेसबुक के माध्यम से प्रचार भी करता था. इसके बाद वो कमलेश तिवारी के पार्टी से भी दूसरे नाम से जुड़ गया और तिवारी के संपर्क में आ गया. कमलेश को सबक सिखाने के लिए फेसबुक पर रोहित सोलंकी के नाम से दो फर्जी आईडी बनाकर वह चलाता था. आसिम ने बताया कि उसने शुक्रवार दोपहर डेढ़ बजे के आसपास टीवी पर कमलेश की हत्या की खबर देखी थी. खबर देखते ही उसने राशिद को फोन किया.

राशिद ने उसे बताया कि अशफाक ने लखनऊ जाकर कमलेश का काम तमाम कर दिया है. हत्या के बाद अशफाक ने आसिम से सात बार अपने मोबाइल से बात की थी. उधर, गुजरात एटीएस ने आसिम के मोबाइल नंबर की दो-तीन महीने की कॉल डिटेल निकलवाईं, जिसमें दोनों के बीच कुल 58 बार बातचीत हुई हैं. दरअसल, ये दोनों ही आरोपी कमलेश से मेहमान बनकर मिलने आएं थे.इसे भी पढ़ें:-कमलेश तिवारी हत्याकांड: पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हुआ चौंकाने वाला खुलासा, 15 बार किया गया चाकू से हमला 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here