Wednesday, December 8, 2021

MODI के प्रस्तावक पंडित छन्नूलाल मिश्र की अखिलेश से हुई मुलाकात, अब तलाशे जा रहे सियासी समीकरण

Must read

- Advertisement -

लखनऊ। विधानसभा चुनाव से पहले प्रत्येक मुलाकात को सियासी चश्मे से देखा जाता है। देश के मशहूर शास्त्रीय गायक पंडित छन्नूलाल मिश्र की मुलाकात के ऐसे ही मायने निकाले जा रहे हैं। छन्नूलाल मिश्र पद्मविभूषण पुरस्कार से सम्मानित हैं। 2014 में जब नरेंद्र मोदी वाराणसी से संसदीय चुनाव लड़ने पहुंचे थे तो छन्नूलाल मिश्र ही उनके प्रस्तावक बने। छन्नूलाल मिश्र की सपा प्रमुख अखिलेश यादव के साथ बुधवार को वाराणसी एयरपोर्ट पर हुई मुलाकात के सियासी चर्चायें तेज हो गयी हैं। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव बुधवार को पूर्वांचल के गाजीपुर में जनसभा को संबोधित करने के लिए वाराणसी के एयरपोर्ट पहुंचे थे। एयर पोर्ट पर ही अखिलेश यादव की मुलाकात मशहूर शास्त्रीय गायक पंडित छन्नूलाल मिश्र के साथ हुई। इस मुलाकात की तस्वीर समाजवादी पार्टी ने ट्वीट कर दी है। इसमें अखिलेश यादव के साथ भारतीय सुहेलदेव समाज पार्टी के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर एक सोफे पर बैठे नजर आ रहे हैं तो बगल वाले दूसरे सोफे पर छन्नूलाल मिश्र और उनके एक साथी भी हैं। इस तस्वीर के सामने आने के बाद मुलाकात के राजनीतिक, सियासी समीकरण तलाशे जा रहे हैं। वाराणसी एयरपोर्ट पर हुई मुलाकात के दौरान अखिलेश यादव और छन्नूलाल मिश्र के बीच क्या बातचीत हुई है। यह बात सामने नहीं आ सकी है। तस्वीर में अखिलेश यादव और छन्नूलाल मिश्र आपस में बात कर रहे हैं और राजभर ध्यान से सुन रहे हैं।

- Advertisement -

ज्ञात हो कि कोरोना के दूसरी लहर में छन्नूलाल मिश्र की बड़ी बेटी संगीता मिश्र की वाराणसी के ही एक निजी अस्पताल में कोविड-19 से मौत हो गई थी। इस दौरान छन्नूलाल मिश्र काफी दुखी हुए थे और उन्होंने मीडिया के सामने आकर न्याय की गुहार लगाई थी। छन्नूलाल मिश्र ने कहा था कि मैं अपनी बेटी की मौत से इतना दुखी हूं कि बता नहीं सकता हूं। सोचता रहता हूं कि आखिर उसके साथ क्या हुआ होगा। इसीलिए हम सीसीटीवी फुटेज दिखाने की मांग कर रहें हैं, लेकिन अभी तक कोई सुनवाई नहीं हुई। सात दिनों के अंदर ही बेटी की मौत हो गई। इसके लिए छन्नूलाल मिश्र ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी पत्र लिखकर न्याय की गुहार लगाई थी। इस घटना के बाद से छन्नूलाल मिश्र और उनका परिवार काफी दुखी और नाराज माना जा रहा है। अखिलेश यादव संग मुलाकात की उनकी तस्वीर आ गई है।

ज्ञात हो कि छन्नूलाल मिश्र इस समय बनारस घराने के कला-संगीत क्षेत्र के अहम प्रतिनिधि हैं। यूपीए सरकार के दौरान 2010 में छन्नूलाल मिश्र को पद्मभूषण और उत्तर प्रदेश की अखिलेश सरकार में यश भारती सम्मान के नवाजा गया था। 2014 लोकसभा चुनाव के दौरान पीएम मोदी वाराणसी सीट से चुनाव लड़ने का निर्णय लिया तो छन्नूलाल मिश्र उनके प्रस्तावक बने थे। 5 साल के बाद 2019 के लोकसभा चुनाव में पीएम मोदी के प्रस्तावक नहीं थे। 2019 के चुनाव में छन्नूलाल मिश्र से कांग्रेस उम्मीदवार अजय राय उनसे आशीर्वाद लेने पहुंचे थे। अजय राय की पीठ ठोंकते छन्नूलाल मिश्र की तस्वीर कांग्रेस के सोशल पर छा गई थी।

यह भी पढ़ेंः-अखिलेश की विजय रथ यात्रा में उमड़ा समर्थकों को सैलाब, BJP पर साधा निशाना

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article