Categories
उत्तर प्रदेश राजनीति लखनऊ

मायावती का बड़ा ऐलान, BSP अकेले बनाएगी 2007 से भी मजबूत सरकार

लखनऊ। प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर सियासी हलचलें तेज हैं। इसी बीच बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती ने बड़ा ऐलान किया है। उन्होंने कहा है कि यूपी चुनाव में अकेले दम पर सरकार बनायेंगी। मायावती ने शानदार जीत का दावा करते हुए कहा कि 2022 में यहां बसपा 2007 से भी मजबूत सरकार बनाएगी। उन्होंने बताया कि उत्तराखंड में उनकी पार्टी अकेले चुनाव लड़ेगी और अच्छा परिणाम लाएगी। मायावती ने पंजाब में बसपा-शिअद की गठबंधन में सरकार बनने का दावा किया है।

बसपा सुप्रीमो मायावती ने सोमवार को बाबा साहब डॉ. भीमराव आंबेडकर की पुण्यतिथि के मौके पर श्रद्धांजलि अर्पित किया। उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बीजेपी और सपा पर जमकर निशाना साधा। मायावती ने कहा कि भाजपा वाले कहते हैं कि अपराध नहीं होते लेकिन कोई दिन ऐसा नहीं बीतता, जब यूपी में अपराध न होता हो। उन्होंने कहा कि अपराध तो लगातार होते हैं। भाजपा वाले मीडिया को मैनेज कर लेते हैं। मीडिया मैनेज से खबर नहीं आती है।

अखिलेश की विजय रथ यात्रा पर तंज

अखिलेश यादव और भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर के बीच गठबंधन को लेकर चर्चा पर बसपा सुप्रीमो ने कहा कि वो दोनों गठबंधन कर भी लें तो भी कुछ फर्क नहीं पड़ने वाला है। मायावती ने अखिलेश यादव पर तंज कसते हुए कहा कि गठबंधन करने वाले लोग जो विजय रथ यात्रा निकाल रहे हैं, अभी विजय मिली भी नहीं है। उन्होंने आरोप लगाया कि सपा की पिछली सरकार में गुंडागर्दी होती थी। चंदौली में सपा ने कैसे कानून हाथ में लेकर पुलिस के साथ बुरा व्यहवार किया, जनता से छुपा नहीं है। उन्होंने बताया कि पिछले दिनों को याद कर लें।

दलितों-पिछड़ों को हाथ में रखनी होगी सत्ता की चाबी

मायावती ने कहा कि आज देश के करोड़ों दलितों, आदिवासियों, पिछड़े वर्गों और भारतीय संविधान के मूल्य निर्माता डॉ. भीमराव आंबेडकर की पुण्यतिथि है। पुण्यतिथि के अवसर पर मैंने अपने निवास स्थान पर उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित की। आंबेडकर जी ने अपने जीते-जीते इन वर्गों के लोगों को कानूनी अधिकार दिलाने के साथ-साथ उन्हें ये भी कहा था कि यदि उनको संविधान में मिले कानूनी अधिकारों का पूरा लाभ उठाना है तो उन्हें एक साथ होकर केंद्र और राज्यों में राजनीतिक सत्ता की चाबी खुद अपने हाथों में लेनी होगी। सत्ता के लिए, देश के लिए एक साथ होना होागा।

मायावती ने कहा कि इस बात का सबसे बड़ा सबूत उत्तर प्रदेश में बसपा के नेतृत्व में रहा शासनकाल है। इस दौरान बसपा ने प्रदेश के विकास में जनहित के बहुत से ऐतिहासिक कार्यों को करने के साथ-साथ आंबेडकर जी को पूरा सम्मान दिया, जिसे विरोधी पार्टियां अभी तक हजम नहीं कर पा रही हैं। उन्हांेने इस अवसर समाजवादी पार्टी और भाजपा शासन काल की बातों का स्मरण कराया।

यह भी पढ़ेंः-BJP, सपा और कांग्रेस पर हमलावर हुई मायावती, सत्ता में आने के बाद भूल जाते हैं जनता से किये वादे