Wednesday, June 7, 2023

मालेगांव ब्लास्ट में गवाह का सच आने पर तल्ख हुए योगी, हिन्दुओं पर झूठे मामले के लिए माफी मांगे कांग्रेस

मालेगांव ब्लास्ट में लगातार गवााहों के बयान बदलते जा रहे हैं। 15वें गवाह ने सुनवाई के दौरान महाराष्ट्र एटीएस पर आरोप लगाया है।

Must read

- Advertisement -

लखनऊ। मालेगांव ब्लास्ट मामले में गवाह के खुलासे के बाद अब मामला तल्ख हो गया है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कांग्रेस पर तीखा हमला बोला है। उन्होंने कहा कि गवाहों पर दबाव बना कर हिन्दुओं को मुकदमें में फंसाया गया। फर्रूखाबाद में जन विश्वास यात्रा के दौरान सीएम योगी ने आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस के राज में हिंदुओं पर झूठे केस दर्ज किये गये। इसके लिए पार्टी को माफी मांगनी चाहिए। कांग्रेस पार्टी झूठे केस दर्ज कराने के लिए माफी मांगे। मालेगांव ब्लास्ट में लगातार गवााहों के बयान बदलते जा रहे हैं। 15वें गवाह ने सुनवाई के दौरान महाराष्ट्र एटीएस पर आरोप लगाया है।

- Advertisement -

गवाह ने कहा कि उस पर बयान के समय दबाव बनाया गया था। उसे सीएम योगी आदित्यनाथ का नाम लेने के लिए दबाव बनाया गया था। साल 2008 में मालेगांव में हुए विस्फोट मामले में इस गवाह ने अपने बयान में कहा है कि उसे बीजेपी और आरएसएस नेताओं का नाम लेने के लिए दबाव और धमकी दी गई थी। बीजेपी और आरएसएस नेताओं के नाम लेने के लिए गवाह को मजबूर किया गया। गवाह ने अपने बयान में कहा है कि उस समय के तत्कालीन एटीएस अधिकारी परमबीर सिंह और अन्य अफसरों ने उन्हें यूपी के मौजूदा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और आरएसएस नेता इंद्रेश कुमार सहित चार नेताओं को नाम लेने के लिए धमकी दी थी। मजबूरी के कारण नाम लेना पड़ा।

अब गवाह का बयान सामने आने के बाद अब राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) नेता इंद्रेश कुमार ने निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि यूपीए सरकार के समय कथित तौर पर भगवा आतंकवाद के झूठे मामलों में फंसाने के लिए साजिश रची गई थी। ज्ञात हो कि जिस परमबीर सिंह पर उस गवाह ने नाम लेने के लिए दबाव बनाने का आरोप लगाया है। वह इसी महीने पुलिस सेवा से निलंबित हो चुके हैं। धन की उगाही और अन्य मामलों में उनकी संलिप्ता को लेकर उनपर ये कार्रवाई की गई थी।

यह भी पढ़ेंः-मालेगांव विस्फोट में 15वें गवाह ने बताया सच, चार नेताओं का नाम लेने को किया था मजबूर

- Advertisement -

More articles

Latest article