Holi 2021

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में त्योहारों के मद्देनजर योगी सरकार ने कम से कम उन 20 जिलों में रैपिड एक्शन फोर्स (आरएएफ) तैनात करने का निर्णय किया है, जिनकी पहचान ‘अतिसंवेदनशील’ के रूप में की गई है। अतिसंवेदनशील श्रेणी के जिलों में आगरा, अलीगढ़, प्रयागराज, अंबेडकरनगर, आजमगढ़, बहराइच, बलरामपुर, बरेली, बुलंदशहर, अयोध्या, गोंडा, गोरखपुर, कानपुर नगर, लखनऊ, मऊ, मेरठ, मुरादाबाद, श्रावस्ती, वाराणसी और संभल शामिल हैं।

इसे भी पढ़ें:- ओवैसी का दावा- UP में योगी कहते हैं ठोक दो, एनकाउंटर में मारे गए लोगों में 37 फीसदी मुस्लिम

एडीजी (कानून-व्यवस्था) प्रशांत कुमार के अनुसार, “यह सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाया जा रहा है कि होली का त्योहार बेहद शांतिपूर्ण तरीके से मनाई जाए। ‘होलिका दहन’ के लिए राज्य भर में 1.4 लाख स्थान हैं। पिछले साल, इस अवधि के दौरान 19 घटनाएं दर्ज हुई थी।” अधिकारी ने बताया कि 2016 के बाद से इस प्रकार की घटनाओं में बहुत कमी आई है। उन्होंने आगे बताया कि त्योहार से संबंधित घटनाओं को रोकने के लिए हर प्रकार के उपाय किए गए हैं।

एडीजी ने आगे बताया, “इनमें ड्रोन द्वारा निगरानी, आरएएफ की तैनाती और जिलों को अतिसंवेदनशील और संवेदनशील की श्रेणी में विभाजित करना आता है।” इन सभी जिलों में, स्थानीय बलों और फायर ब्रिगेड और पीएसी की कंपनियां तैनात कर दी गई हैं। एडीजी ने आगे बताया, “इन जिलों की पुलिस सतर्कता बनाए रखने के लिए कहा गया है और जो लोग पिछली घटनाओं में आरोपी हैं, उन पर निगरानी रखी जाएगी।” यहां तक की जिला पुलिस प्रमुखों को जो होली उत्सव का एक हिस्सा हैं उन विभिन्न जुलूसों के बारे में सतर्क रहने के लिए कहा गया है।

इसे भी पढ़ें:- ओवैसी के बयान पर बढ़ी तकरार, प्रवक्ता ने पूछा क्या एनकाउंटर में भी ओवैसी को आरक्षण चाहिए !