bord exam

लखनऊ। कोरोना के कहर के बीच उत्तर प्रदेश सरकार ने भी उत्तर प्रदेश बोर्ड की परीक्षा रद कर दी है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अगुवाई में हुई बैठक के बाद परीक्षा रद करने का फैसला लिया गया है। ज्ञात हो कि इससे पहले सीबीएसई और आईसीएसई की 12वीं की परीक्षा रद चुकी है। केंद्र के इस फैसले के बाद गुजरात, मध्यप्रदेश समेत कई बोर्ड ने अपनी परीक्षाएं रद कर दी थीं। सीएम की अध्यक्षता में कोरोना पर बनी टीम-9 की बैठक हुई। डिप्टी सीएम और माध्यमिक शिक्षा मंत्री दिनेश शर्मा टीम 9 के सदस्य नही हैं फिर भी वह बोर्ड की परीक्षाओं को लेकर बैठक में शामिल हुए। इस अहम बैठक में परीक्षा को रद करने का निर्णय लिया गया। ज्ञात हो कि उत्तर प्रदेश बोर्ड की 12वीं की परीक्षा के लिए 2609501 विद्यार्थी पंजीकृत हैं। यूपी बोर्ड की हाईस्कूल की परीक्षाएं पहले ही रद की जा चुकी हैं। सीबीएसई व आईसीएसई ने भी 12वीं की परीक्षाएं रद करने की घोषणा पीएम मोदी की बैठक के बाद किया है।

ऐसे बनेगा परीक्षा परिणाम
12वीं के छात्रों को भी उसी आधार पर प्रमोट किया जाएगा जिस आधार पर 10वीं का परीक्षा परिणाम तैयार किया गया है। छात्रों को प्री.बोर्ड परीक्षा और 11वीं के फाइनल एग्जाम के अंकों के आधार पर प्रोन्नत किया जाएगा। अगर प्री.बोर्ड एग्जाम नहीं दिए हैं तो 11वीं और 10वीं के एग्जाम के आधार पर छात्र प्रमोट होंगे। 10वीं के छात्रों को भी 9वीं के फाइनल अंक और प्री.बोर्ड एग्जाम के अंक के आधार पर पास किया गया है। बोर्ड ने यह भी किया है कि 10वीं या 12वीं के जो छात्र बाद में परीक्षा देना चाहेंगे। उनके लिए ऐसी सुविधा होगी मगर फिलहाल वह आगे प्रमोट कर दिए जाएंगे।

ज्ञात हो कि प्रधानमंत्री द्वारा सीबीएसई बोर्ड परीक्षाएं स्थगित किए जाने के बाद से कई राज्यों के बोर्ड भी अपने 12वीं की परीक्षा रद कर चुके हैं। मध्यप्रदेश, गुजरात, राजस्थान, गोवा, उत्तराखंड और हरियाणा बोर्ड ने अपने 12वीं के परीक्षा रद कर दिए हैं।

ये भी पढ़ेंः-सीबीएसई 12वीं की परीक्षा रद, अब ऐसे तैयार हो सकता है परिणाम, विद्यार्थियों के पास होगा यह विकल्प

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here