Categories
उत्तर प्रदेश राजनीति लखनऊ

चुनावी सर्वे : एक बार फिर YOGI बनाम कौन, अखिलेश की बढ़त ने दिखाया दम

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में साल 2022 की शुरुआत में ही विधानसभा चुनाव होने वाले है। यूपी विधानसभा चुनाव के लिए चुनाव आयोग किसी भी दिन तारीखों का ऐलान कर सकता है। इस बीच उत्तर प्रदेश के मतदाताओं की रूझान बार-बार टटोलने की कोशिश हो रही है। उत्तर प्रदेश में बीजेपी सरकार या सपा सरकार को लेकर सियासी अनुमान तेज हो गये हैं। सत्ता किस दल के पास होगी यह तो चुनाव के नतीजे ही बताएंगे, मगर अभी से सियासी हवाओं से सियासत की तस्वीर झलकने लगी है। ऐसे ही कुछ सवालों को लेकर एक चुनावी सर्वे सामने आया है, जिसमें चैंकाने वाले आंकड़ें सामने आए हैं। एबीपी-सी-वोटर के सर्वे की मानें तो इस बार के चुनाव में भी भाजपा के पक्ष में माहौल दिख रहा है तो सपा कराराा टक्कर दे रही है। सपा की टक्कर से कोई भी बड़ा उलटफेर हो सकता है।

एबीपी-सी वोटर के सर्वे में उत्तर प्रदेश की जनता से पूछा गया कि अगर आज चुनाव हुए तो उत्तर प्रदेश में कौन बाजी मारेगा। इसके जवाब में जो आंकड़े आए वह भाजपा के पक्ष में तो हैं हीं। सर्वे के दौरान लोगों ने सपा के बढ़ते ग्राफ को स्वीकार किया। समाजवादी पार्टी के लिए मतदाताओं को तेजी से रूझाने बढ़ा है। सर्वे में शामिल करीब करीब 41 प्रतिशत लोगों ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी फिर से सत्ता में वापसी करेगी। जनता के मूड में सपा के प्रति भी प्यार बढ़ा है जो किसी भी बड़े परिवर्तन की आहट है। करीब 33 प्रतिशत लोगों ने समाजवादी पार्टी के पक्ष में अपनी राय दी है।

यूपी में बसपा की सरकार के 12 फीसदी, 8 फीसदी लोगों का मानना है कि कांग्रेस सरकार बन सकती है। 6 फीसदी लोगों ने कहा कि कोई और दल बना सकता है। मौजूदा जनता के मूड को ही देखा जाए तो भाजपा और सपा में महज 8 फीसदी का अंतर है। यानि सपा के पक्ष में भी हवा बनती दिख रही है। दावा किया गया है कि इस सर्वे में 12 हजार से अधिक लोगों ने हिस्सा लिया है।

2017 विधानसभा चुनाव के नतीजे

2017 विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी की प्रचंड जीत हुई थी। उत्तर प्रदेश विधानसभा की 403 सीटों पर हुए चुनाव में भाजपा को 325 सीटें मिली थी। कांग्रेस 7, सपा 47 और बसपा 19 सीटें जीतने में सफल हुई थी। रालोद के खाते में भी एक सीट गई थी और अन्य का 4 सीटों पर कब्जा रहा।

यह भी पढ़ेंः-मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने बतायी तैयारी, सख्ती के साथ निष्पक्ष होगा प्रदेश का विधानसभा चुनाव