Monday, January 18, 2021
Home उत्तर प्रदेश पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति के ठिकानों पर ED का छापा, अखिलेश यादव...

पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति के ठिकानों पर ED का छापा, अखिलेश यादव भी रडार पर, जानिए क्या है मामला

अमेठी। अखिलेश यादव सरकार में खनन मंत्री रहे गायत्री प्रजापति सरकार जाने के बाद से मुश्किलें कम होने का नाम ही नहीं ले रही हैं। इसी बीच गायत्री प्रजापति से जुड़े कई स्थानों पर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने अमेठी और लखनऊ स्थित घरों पर एक साथ छापेमारी की कार्रवाई की है। बताया जा रहा है कि अवैध खनन मामले के सिलसिले में लखनऊ और अमेठी में गायत्री प्रसाद प्रजापति के परिवार के सदस्यों के आवासीय और आधिकारिक परिसरों दस्तावेजों की जांच कर रही है। ज्ञात हो कि गायत्री प्रजापति समाजवादी पार्टी सरकार में वर्ष 2012 से 2017 के बीच मंत्री रहते हुए आय से छह गुना अधिक संपत्तियां बनाई थी। सूत्रों के अनुसार उनकी आय 50 लाख रुपए के लगभग थी, जबकि उनके पास से तीन करोड़ से अधिक संपत्तियां बरामद हुईं।

इसे भी पढ़ें:- जदयू ने बीजेपी को दी सीधी चेतावनी, कहा- जो कुछ भी हो रहा, वह ठीक नहीं

बताया जा रहा है अवैध खनन मामले की कोर्ट के आदेश पर केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) जांच कर रही है। सपा के मुखिया और उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम अखिलेश यादव की भूमिका भी संदेह के घेरे में नजर आ रही है। अखिलेश यादव 2012 से 2017 तक यूपी के सीएम और 2012 से 2013 तक राज्य के खनन मंत्री रहे हैं। इसी बीच 2012 से 2016 के बीच अवैध खनन हुआ था।

जांच एजेंसियों के सूत्रों ने बताया है कि 2012 और 2016 के बीच उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा कुल 22 निविदाएं पारित की गई थीं। इनमें से 14, 2012 और 2013 के बीच पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के कार्यकाल में पारित की गई थीं। मिली जानकारी के मुताबिक 22 में से 14 पट्टा उल्लंघन तब हुआ जब गायत्री प्रजापति खनन राज्य मंत्री और अखिलेश खनन मंत्री थे।

एजेंसियों के अनुसार अखिलेश यादव और गायत्री प्रसाद प्रजापति दोनों ने खनन मंत्री होने पर मंजूरी दी थी। नियम के अनुसार 5 लाख रुपये और उससे ज्यादा के सभी पट्टों को मुख्यमंत्री कार्यालय से उचित अनुमोदन प्राप्त करना था।

इसे भी पढ़ें:- कांग्रेस नेता ने सोनिया को लिखा पत्र, कहा-शिवसेना-एनसीपी कांग्रेस को खत्म करने की रच रहे हैं साजिश

Most Popular