लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हम पश्चिम उत्तर प्रदेश में मेरठ को पूर्वी उप्र में प्रयागराज से जोड़ रहे हैं। मेरठ की यात्रा का समय कम होकर गंगा एक्सप्रेस-वे के माध्यम से प्रयागराज से मेरठ तक 5 घंटे और 6.5 घंटे हो जाएगा। वहीं वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि उत्तर प्रदेश के लिए जब डिफेंस कॉरिडोर की घोषणा की गई तो थोड़ी हिचकिचाहट हुई। तमिलनाडु, गुजरात, हरियाणा और अन्य जैसे कई राज्यों में औद्योगिक जलवायु व्याप्त है। जबकि, उत्तर प्रदेश के लिए कृषि और एमएसएमई अधिक महत्वपूर्ण थे। लेकिन आज सीएम ने कर दिखाया है। मुझे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर बहुत गर्व है, जो व्यापक राष्ट्रीय हित को समझते हैं, इसे राज्य की नीतियों में अनुवाद करते हैं और इसे निष्पादन स्तर पर अंतिम मील तक ले जाते हैं।

बता दें कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की मौजूदगी में इस प्रोजेक्ट के लिए 5,100 करोड़ रुपए का सिक्योरिटाइजेशन लोन ट्रांसफर किया। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मेरठ को पूर्वी उत्तर प्रदेश के प्रयागराज से जोड़ने के लिए गंगा एक्सप्रेस-वे प्रोजेक्ट के तहत भूमि अधिग्रहण का कार्य 93 फीसदी पूरा हो चुका है। यह उत्तर भारत का सबसे लम्बा एक्सप्रेसवे होगा। इसके बन जाने के बाद 594 किलोमीटर का सफर पांच से साढ़े छह घंटे में पूरा हो सकेगा।

इस दौरान सीएम योगी ने कहा कि आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे बनकर तैयार हो गया है। मैं बड़े बुनियादी ढांचे के विकास के लिए केंद्रीय बजट से धन के आवंटन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वित्त मंत्री का आभारी हूं। उन्होंने कहा कि पश्चिम उत्तर प्रदेश के मेरठ को पूर्वी उत्तर प्रदेश के प्रयागराज से जोड़ने वाला यह गंगा एक्सप्रेस—वे बनकर तैयार होने के बाद 594 किलोमीटर का सफ पांच से साढ़े छह घंटे में तय हो सकेगा। यह प्रोजेक्ट राज्य की अर्थव्यवस्था के लिए रीढ़ की हड्डी बनेगा।

इसे भी पढ़ें:प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमनाथ मंदिर में कई परियोजनाओं का किया शिलान्‍यास, कहा-अधिक समय तक नहीं रहता आतंक का अस्तित्व