जीना यहां, मरना यहां… BJP से टिकट नहीं मिलने पर मंत्री स्वाती सिंह ने कही दिल की बात

0
1334
swati-singh-minister.

लखनऊ। योगी सरकार में मंत्री स्वाती सिंह ने सरोजनीनगर विधानसभा से टिकट नहीं दिये जाने पर पहली बार प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा है कि वह पार्टी के फैसले के साथ हैं। स्वाती सिंह ने कहा कि उनके रोम-रोम में भाजपा है। पार्टी छोड़ने की अटकलों को पूरी तरह खारिज कर दिया। उन्होंने कहा- जीना यहां, मरना यहां। स्वाती सिंह ने पति के साथ विवाद की वजह से टिकट कटने के सवाल पर कहा कि कोई कंट्रोवर्सी नहीं है। यह भारतीय जनता पार्टी का फैसला है, उसे स्वीकार करना होगा।

सरोजनीनगर से टिकट नहीं दिये जाने पर बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में स्वाती सिंह ने कहा कि वह पार्टी कार्यकर्ता के रूप में आजीवन काम करती रहेंगी। नाराजगी को लेकर सवाल पर मुस्कुराते हुए स्वाती ने कहा कि क्या मेरे चेहरे से नाराजगी लग रही है। सपा में जाने की अटकलों पर स्वाती ने कहा कि मैं 17 साल की थी तब विद्यार्थी परिषद जॉइन किया था। मेरे रोम-रोम में बीजेपी है। मैं यहीं रहूंगी और यहीं मरूंगी। सगंठन भविष्य में जो भी जिम्मेदारी देगी, निष्ठा के साथ निभाऊंगी। उन्होंने कहा कि विद्यार्थी काल से भारतीय जनता पार्टी से जुड़ी रही हूं।

आपका टिकट काट कर राजेश्वर सिंह को टिकट दिए जाने के फैसले से आप संतुष्ट हैं? इसके जवाब में स्वाती ने कहा कि पार्टी के फैसले पर किसी कार्यकर्ता को सवाल नहीं उठाना चाहिए। पार्टी का फैसला हमेशा दूरगामी होता है। स्वाती ने कहा कि वह नहीं जानती थीं कि पार्टी उन्हें महिला मोर्चा का अध्यक्ष बनायेगी। पार्टी ने टिकट दिया। सरोजनीनगर सीट से जितवाया और मंत्री बनाया। पार्टी ने यह फैसला भी कुछ अच्छा सोचकर ही किया होगा, जिसे स्वीकारना है।

पति दयाशंकर संग कंट्रोवर्सी

पति दयाशंकर सिंह के मामले में स्वाति सिंह ने कहा कि कैसी कंट्रोवर्सी? मैंने कभी एक शब्द भी बोला। उस (वायरल) ऑडियो के बारे में भी मैंने एक शब्द कहा। कौन सी कंट्रोवर्सी? मीडिया में सूत्र के हवाले से कुछ भी चलने लगता है। जहां तक दावेदार की बात है, दयाशंकर सिंह अपनी बात रख रहे थे। बेकार की चीजों को मुद्दा नहीं बनाना चाहिए। पार्टी और चुनाव की बात होनी चाहिए।

ये भी पढ़ेंः-क्या टिकट कटने का बदला लेंगी स्वाती सिंह, ऐसे जवाब देने की तैयारी में है सपा