swatantra dev singh

लखनऊ। लखीमपुर कांड भारतीय जनता पार्टी के लिए भारी पड़ता जा रहा है। बीजेपी लखीमपुर कांड को लेकर डैमेट की भरपाई करने में जुटी है। लखीमपुर खीरी में कार से रौंदने से चार किसानों की मौत और हिंसा में एक पत्रकार सहित चार की मौत ने लोगों को हिला कर रख दिया है। इस मामले में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री और सांसद अजय मिश्रा टेनी को भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने सोमवार को लखनऊ तलब किया है। बताया जा रहा है कि किसानों सहित आठ की मौत के बाद से भारतीय जनता पार्टी हाईकमान काफी नाराज है। अजय मिश्रा जब दिल्ली से लौटे थे तो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत कई बड़े नेताओं ने उनसे मुलाकात नहीं की थी। सीएम और दूसरे नेताओं से नहीं मिलने पर अजय मिश्रा को लखनऊ से खाली हाथ जाना पड़ा था। सियासी तनाव और लोगों की नाराजगी को लेकर एक बार फिर इन्हें लखनऊ बुलाया गया है। बताया जा रहा है कि पार्टी इन से पूरी रिपोर्ट तलब करेगी और फिर आगे तय करेगी। पार्टी उनसे रिपोर्ट लेने के बाद किसी कार्रवाई का निर्णय करेगी।

Ajay mishra teni

ज्ञात हो कि लखीमपुर खीरी मामले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्रा के बेटे आशीष की गिरफ्तारी के एक दिन बाद भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने पार्टी कार्यकर्ताओं को नसीहत देते हुए कहा कि ‘‘हम राजनीति में लूटने के लिए नहीं हैं और न ही किसी को फार्च्यूनर से कुचलने के लिए आए हैं। इस बयान के बाद माना जा रहा है कि भारतीय जनता पार्टी संगठन भी लखीमपुर कांड को लेकर सचेत होगा। रविवार को वाराणसी में प्रियंका गांधी और सहारनपुर में अखिलेश यादव ने योगी सरकार, मोदी सरकार पर निशाना साधा। सहारनपुर की एक जनसभा में समाजवादी पार्टी के प्रमुख और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने केंद्रीय गृह राज्य मंत्री के खिलाफ हमलावर रुख अपनाते हुए कहा कि भाजपा ने किसानों को कुचला, साथ ही कानून को भी कुचला गया अब संविधान को भी कुचलने की तैयारी है। अखिलेश ने सरकार पर गृह राज्य मंत्री को बचाने का आरोप लगाया था।

lakhimpur

ज्ञात हो कि 3 अक्टूबर को लखीमपुर खीरी की हिंसा में चार किसानों सहित आठ लोगों की मौत के मामले में आशीष मिश्रा और अन्य लोगों के खिलाफ हत्या, हत्या की साजिश, बलवा समेत कई संबंधित धाराओं में तिकुनिया थाने में प्राथमिकी दर्ज की गई है। घटना के बाद तिकुनिया कांड का मुख्य आरोपी आशीष मिश्र मोनू समेत 3 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया था।

यह भी पढ़ेंः-लखीमपुर कांड पर बोले UP BJP के मुखिया, नेतागिरी का मतलब फॉर्च्यूनर से किसी कुचलना नहीं