Categories
उत्तर प्रदेश लखनऊ

लखीमपुर कांड: 208 गवाह, 17 वैज्ञानिक साक्ष्य, 7 भौतिक साक्ष्य और 24 वीडियो से तैयार हुई चार्जशीट

लखनऊ। लखीमपुर कांड में एसआईटी की चार्जशीट दाखिल होने के साथ ही कई नये खुलासे हो रहे हैं। इस मामले में पहली गिरफ्तारी के 89वें दिन दाखिल चार्जशीट में एसआईटी ने मान लिया है कि लखीमपुर कांड को साजिश के तहत अंजाम दिया गया था। इसमें मंत्री अजय मिश्र टेनी के बेटे आशीष समेत 13 को पुलिस ने आरोपी बनाया है। तिकुनिया कांड की चार्जशीट 208 गवाह, 17 वैज्ञानिक साक्ष्य, सात भौतिक साक्ष्य और 24 वीडियो फोटो के सहारे तैयार की गई है। चार्जशीट करीब पांच हजार पन्नों की है। चार्जशीट में 14 लोगों को आरोपी बनाया गया है। इसमें से 13 आरोपी जेल में हैं, जबकि एक आरोपी बाहर है।

88 दिनों तक चली जांच के बाद एसआईटी ने चार्जशीट कोर्ट में दाखिल कर दी। चार्जशीट में अजय मिश्रा मंत्री पुत्र आशीष मिश्रा मुख्य आरोपी है। अंकित दास, लतीफ, सुमित, नंदन सिंह, सत्यम, शिशुपाल, आशीष पांडेय, शेखर, उल्लास, रिंकू राणा, धर्मेंद्र, लवकुश को सह आरोपी बनाया है। वीरेंद्र शुक्ला को सबूत छिपाने का आरोपी पाया गया है। ज्ञात हो कि वीरेंद्र शुक्ला आशीष मिश्रा का रिश्तेदार है। जांच में एसआईटी को 17 वैज्ञानिक साक्ष्य, सात भौतिक साक्ष्य और 24 वीडियो फोटो ऐसे मिले, जिससे आरोपियों की मुश्किलें बढ़ी। लखीमपुर कांड मामले में 208 लोगों ने गवाही दी।

एसआईटी की तरफ से विवेचक विद्याराम दिवाकर ने सोमवार सुबह 11 बजकर 30 मिनट के करीब सीजेएम चिंताराम की अदालत में आरोप पत्र पेश किया। लोहे के बड़े बक्से में कड़ी सुरक्षा में लाए गए इन दस्तावेजों को पुलिस ने सीजेएम कोर्ट में पहुंचाया। वरिष्ठ अभियोजन अधिकारी एसपी यादव ने सीजेएम चिंताराम को आरोप पत्र लाए जाने की जानकारी दी। इसके बाद चार्जशीट दाखिल होने की कार्रवाई शुरू की गई। दोपहर करीब 12 बजे बक्से का ताला खोलकर विवेचक की तरफ से आरोप पत्र कोर्ट के समक्ष रखा गया। इससे पहले एसपीओ एसपी यादव ने चार्जशीट के पन्नों से धाराओं का सार नोट किया। चार्जशीट के आरोप पत्र में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री के बेटे आशीष मिश्र को पुलिस ने मुख्य आरोपी बनाया है। जेल में बंद सभी 13 आरोपियों पर साजिशन हत्या, जानलेवा हमला समेत कई गंभीर धाराएं लगाई हैं। एसआईटी ने केंद्रीय मंत्री के रिश्तेदार व पलिया ब्लाक प्रमुख वीरेंद्र शुक्ला का भी नाम चार्जशीट में बढ़ाया है। वीरेंद्र पर साक्ष्य मिटाने व छिपाने की धारा 201 लगाई गई है।

वरदात से पहले होटल में मौजूद थे आरोपी

पांच हजार पन्नों की चार्जशीट तैयार करने में गवाही, वैज्ञानिक साक्ष्य समेत तमाम दस्तावेज लगाए गए हैं। कई डीवीआर व वीडियो फुटेज भी चार्जशीट के साथ अदालत को सौंपे गए हैं। एसआईटी ने तिकुनिया के एक होटल के डीवीआर को भी साक्ष्य के रूप में शामिल किया और दावा किया कि वारदात से पहले कई आरोपी वहां मौजूद थे।

मौके पर मौजूद था मंत्री का बेटा

एसआईटी ने चार्जशीट और केस डायरी आदि तमाम दस्तावेज कोर्ट में प्रस्तुत किये हैं। चार्जशीट में मंत्री के बेटे की न सिर्फ घटनास्थल पर मौजूदगी की बात एसआईटी ने कही है बल्कि साजिश, हत्या, जानलेवा हमला समेत कई गंभीर धाराएं भी लगाईं। एसपी यादव ने बताया कि केस डायरी में पुलिस ने मंत्री अजय मिश्र टेनी के बेटे आशीष की मौजूदगी की बात कही है। गवाहों ने एसआईटी को बताया कि मंत्री का बेटा आशीष घटनास्थल पर मौजूद था। आशीष मिश्रा को एसआईटी ने दस अक्तूबर को पूछताछ के लिए बुलाया था। 12 घंटे की पूछताछ के बाद भी सहयोग न करने पर उसको गिरफ्तार कर लिया गया। इसके बाद पुलिस ने आशीष को रिमांड पर लिया और पूछताछ की। वर्तमान में आशीष मिश्रा जेल में है।

यह भी पढ़ेंः-लखीमपुर कांड में UP SIT ने 5000 पन्ने की चार्जशीट दाखिल की, गृह राज्यमंत्री का बेटा ही मुख्य आरोपी