nerender giri

प्रयागराज। उत्तर प्रदेश के दो बार मुख्यमंत्री और राजस्थान के पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह के निधन पर साधु-संतों की सर्वोच्च संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि ने शोक व्यक्त किया है। महंत नरेंद्र गिरी ने कहा कि कल्याण सिंह हमेशा संतों का सम्मान करते थे। संतों से जब पूर्व सीएम कल्याण सिंह मिलते थे उनका आशीर्वाद लेते थे। कल्याण सिंह ने राम मंदिर निर्माण के लिए उन्होंने अपना पूरा जीवन समर्पित कर दिया था। सुप्रीम कोर्ट से श्रीराम मंदिर के पक्ष में जब फैसला आया था तब भी उन्होंने यही कहा था कि उनका जीवन सफल हो गया है।

narender giri

उन्होंने दिवंगत राम भक्त को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए नरेन्द्र गिरी ने कहा कि रामजन्म भूमि पर भव्य मंदिर निर्माण की मार्ग को प्रशस्त करने वाले कल्याण सिंह ही थे। उनके मुख्यमंत्रित्व काल में बाबरी मस्जिद के विवादित ढांचे का विध्वंस हुआ था। कल्याण सिंह ने न केवल सहयोग दिया बल्कि उन्होंने रामभक्तों पर गोली चलाने से भी इनकार कर दिया था। रामजन्म भूमि को मुक्त कराने के लिए कल्याण सिंह ने मुख्यमंत्री के पद का भी मोह नहीं किया। महंत नरेंद्र गिरि ने कहा कि सीएम के पद का त्याग किया। कल्याण के निधन पर पूरा संत समाज दुखी है।

भव्य राम मंदिर को लेकर हुई थी चर्चा

महंत नरेंद्र गिरि के मुताबिक कल्याण सिंह ने राम मंदिर मुद्दे पर कभी समझौता स्वीकार नहीं किया। यही वजह थी कि जब वह पिछले लगभग तीन माह से अस्वस्थ थे तो उनसे मिलने वालों में सभी दलों के लोग शामिल रहे। महंत नरेंद्र गिरी ने बताया कि पूर्व सीएम कल्याण सिंह से उनकी मुलाकात आखरी बार राजस्थान में गवर्नर रहते समय हुई थी। उस समय भी राम मंदिर निर्माण को लेकर उन से चर्चा हुई थी और उन्होंने आशीर्वाद भी लिया था।

यह भी पढ़ेंः-जमीन और घर बेच कर UP छोड़ने की तैयारी करने लें मुनव्वर राणा : महंत नरेंद्र गिरि