अजीत सिंह हत्याकाण्ड की जांच STF को सौंपी, अब बाहुबली धनंजय सिंह की बढ़ेंगी मुश्किलें

मऊ के हिस्ट्रीशीटर अजीत सिंह की हत्या छह जनवरी, 2021 को कठौता चौराहे चैराहे के पास कर दी गयी थी। अजीत सिंह पर कई राउण्ड फायरिंग की गई थी।

0
401
dhanan jay singh

लखनऊ। विभूतिखंड में हुए अजीत सिंह हत्याकाण्ड की जांच STF को सौंप दी गई है। एडीजी कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार के आदेश पर जांच एसटीएफ को सौंपी गई है। इस मामले में साजिश रचने के आरोपी बनाये गये पूर्व सांसद धनंजय सिंह की मुश्किले बढ़ गई है। धनंजय सिंह को लेकर एक वीडियो वायरल होने के बाद कुछ दिन से यह मामला सुर्खियों में है। ज्ञात हो कि पिछले साल अगस्त में इस हत्याकाण्ड की विवेचना विभूतिखंड कोतवाली से गाजीपुर पुलिस को स्थानान्तरित कर दी गई थी। मऊ के हिस्ट्रीशीटर अजीत सिंह की हत्या छह जनवरी, 2021 को कठौता चौराहे चैराहे के पास कर दी गयी थी। अजीत सिंह पर कई राउण्ड फायरिंग की गई थी। इसमें मोहर व राहगीर आकाश भी घायल हुये थे। मोहर ने एफआईआर करायी थी कि यह हत्या जेल में बंद अखण्ड सिंह व कुंटू सिंह ने सुपारी देकर करायी है। शूटरों में गिरधारी विश्वकर्मा उर्फ डॉक्टर भी था।

अजीत सिंह हत्यााकांड में संदीप सिंह बाबा, अंकुर सिंह, मुस्तफा, प्रिंस, बंधन, रेहान सिंह और रेहान गिरफ्तार हुए। गिरधारी गिरफ्तारी के बाद रिमाण्ड अवधि में पुलिस अभिरक्षा से भागते समय मुठभेड़ में मारा गया था। पुलिस ने जेल में बंद सभी आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल कर दी थी। पुलिस ने विवेचना में धनंजय सिंह को भी साजिश रचने का आरोपी बनाया। इसके बाद ही धनंजय सिंह पर 25 हजार रुपये इनाम भी घोषित हुआ था। वर्तमान में धनंजय सिंह का एक वीडियो वायरल हो रहा है।

अगस्त में गाजीपुर पुलिस को मिली थी विवेचना

पिछले साल अगस्त में इस हत्याकाण्ड की विवेचना गाजीपुर थाने को स्थानान्तिरत कर दी गई। विवेजना सौंपे जाने के बाद गाजीपुर थाने में तीन विवेचक बदल चुके हैं। इस मामले में धनंजय सिंह की गिरफ्तारी न होने और उनके खुलेआम घूमने को लेकर सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल हुआ है। इसी बीच शुक्रवार को इस हत्याकाण्ड की जांच एसटीएफ को दे दी गई है। शुक्रवार शाम को एसटीएफ को यह आदेश भी पहुंच गया है।

यह भी पढ़ेंः-पूर्व सांसद धनंजय सिंह को भगोड़ा घोषित करने की तैयारी में पुलिस, इन आरोपियों पर कसा शिकंजा